खबर

दूसरे ग्रहों पर मानव जाति के स्थापन की कोशिशों में हैं SpaceX के सीईओ, Elon Musk

अपने वादे के अनुसार, हम आज आपके लिए SpaceX के सीईओ एलोन मस्क द्वारा मंगल ग्रह पर बस्तियां बनाने और मनुष्य को अंतरिक्ष प्रजाति के रूप में परिवर्तित करने की योजनाओं का गहन विश्लेषण लेकर आयें हैं |

मेक्सिको के गुअदालाजारा में हुए इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉटिकल सम्मेलन में वक्ता के रूप में पधारे, एलोन मस्क ने अपने विचारों से तब सबको रोमांचित और हैरान कर दिया जब उन्होंने मानव सभ्यता को पृथ्वी के दायरे से परे बढ़ाने की SpaceX की योजना का जिक्र किया |

मंगल ग्रह में लैंडिंग पर SpaceX का वैचारिक वीडियो:

समारोह के खत्म होने से पहले, SpaceX  ने निम्नलिखित वैचारिक प्रस्तुति/वीडियो के माध्यम से यह दिखाया कि कैसे मानव मंगल ग्रह पर जीवनयापन की संभावना तलाश सकता है |

नीचे दिए गए वीडियो में, आप यह देख सकतें हैं कि कैसे SpaceX के केप केनवरल लॉन्चपैड 39 ए से एक रॉकेट प्रेक्षेपित किया जाता है और फिर अंतरिक्ष यान को पृथ्वी की कक्षा में पहुँचाने के बाद बूस्टर वापस पृथ्वी पर आ जाता है और फिर एक प्रणोदक बूस्टर टैंकर पर लादा जाता है, जिसका उपयोग मंगल ग्रह के लिए अपनी यात्रा के अंतिम चरण में, अंतरिक्ष यान में ईधन भरने में किया जाता है |

अंत में यह यान मंगल ग्रह में एक आरामदायक लैंडिंग करने में सफल हो जाता है और फिर हम अपने आप को इस लाल ग्रह में पहुंचने वाले पहले अंतरिक्ष यात्री के रूप में महसूस कर पाते हैं |

यह विडियो शुरुआत में किसी विज्ञान कथा पर आधारित फिल्म की तरह लगता है, लेकिन तभी यह ख्याल भी जहन में आता है कि कुछ सदी पहले लोग एयरोप्लेन को लेकर भी ऐसा ही विचार रखते होंगे ( जो आज एक सच की तरह उभर कर सामने आया है ) |

जाने या ना जाने पर असमंजस:

मंच पर आने के बाद, एलोन मस्क ने एक बहुत ही सरल सवाल के साथ समारोह की शुरुआत की | सवाल यह, कि हमें मंगल पर जाना चाहिए या फिर नहीं | यह मानते हुए कि हमने अपने ग्रह को ना छोड़ने का फ़ैसला लिया और एक दिन दुनिया का विनाश हो गया, तब ?

तब शायद स्टारबक्स, शेक्सपियर, टैंक, ज्ञान, असीम दौलत, फेसबुक इत्यादि सबका सम्पूर्ण विनाश ही होगा और कुछ नहीं |

और जब हम यह जानते हैं कि हमारी पृथ्वी इस ब्रह्मांड के विस्तार में धूल के एक गुबार मात्र है, तो इस विनाश की कल्पना करना मुश्किल भी नहीं लगता | एक आवारा धूमकेतु, एक विशेष रूप से हिंसक सौर भड़काव आदि इसको मिटाने के लिए काफ़ी हैं और फिर किसे पता है कि इस विनाश के बाद क्या होगा ?

यही कारण है कि एलोन मस्क ने एक दूसरा विकल्प प्रस्तुत किया है, दूसरे ग्रहों पर मनुष्य को स्थापित करने का |

इसके अलावा हमें मुख्य रूप से इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि पृथ्वी के संसाधन अनंत नहीं हैं और न ही इनकी क्षमता है कि ये भविष्य की माँगों को पूरा कर सकें | और हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि हम पहले से ही बहुत से संसाधनों का अत्यधिक दोहीकरण कर चुकें हैं और औद्योगिक क्रांति के बाद चीज़ें और भी बदतर हो गईं हैं |

इसलिए अगर हम लंबे समय तक अपने ग्रह को ही अपना आवास बनाना चाहतें हैं तो हमें संसाधनों का कम से कम और सावधानी से उपयोग करना पड़ेगा |

हम आपको इस विषय से जुड़ी और भी कड़ियाँ और इस पर होने वाले विकास के बारे में जानकारी देते रहेंगे | और अगर आप लाल ग्रह पर मानव सभ्यता के गठन के लिए एलोन मस्क की रणनीति को प्रभावी समझते हैं तो और जानकारियों के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये क्यूंकि यक़ीनन यह सभी आने वाली जानकरियाँ आपको रोमांचित करने के साथ ही साथ एक गहन विचार का भी मौका देंगी |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन