खबर स्टार्टअप्स

शिक्षा स्टार्टप Stoodnt को छात्रों का विदेश में शिक्षा प्राप्त करना संभव करने के लिये Google भारत के वाइस प्रेज़िडेंज राजन आनंदन से निवेश

विदेश मे पढ़ने की इच्छा रखने वाले छात्रों की सहायता करने के लिये स्थापित शिक्षा स्टार्टप Stoodnt को Google भारत व दक्षिण पूर्वी एशिया के वाइस प्रेज़िडेंट राजन आनंदन से एक गुप्त रक़म का निवेश मिला है। जहां ये रक़म गुप्त रखी गयी है, कुछ रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि उन्हें इस सत्र में करीब $300,000 प्राप्त हुए हैं।

राजन आनंदन के अलावा, कंपनी को भारत व US के कई एंजल निवेशकों से भी निवेश प्राप्त हुआ है।

इस निवेश के साथ, कंपनी अपने प्रोडक्ट का उपभोक्ता अनुभव बहतर करना चाहती है व और भी नये प्रोडक्ट विकसित करना चाहती है। वे अपना उपभोक्ता बेस बढ़ाने के लिये निवेश भी करेंगे।

पालो ऑल्टो में स्थित Stoodnt को कुछ महीनों पहले अजय सिंह, यूरी पुंजी और सेना पलनिसमी ने स्थापित किया था। अजय व यूरी Harvard Business School के पूर्व छात्र हैं, वहीं सेना एक सॉफ़्टवेयर उद्यमी हैं।

मंच विदेश में पढ़ने की इच्छा रखने वाले छात्रों को उच्च कोटि के एडमीशन काउंस्लरों से जोड़ कर और मार्गदर्शन, विचार व ऑनलाइन टूल उपलब्ध करा कर उनकी सहायता करता है। इस समय मंच छात्रों को US व कनाडा में सनातक, सनातकोत्तर और MBA करने के लिये मार्गदर्शन उपलब्ध करा रहा है। आने वाले सप्ताहों में इनके मंच पर UK व ऑस्ट्रेलिया के विकल्प भी उपलब्ध होंगे।

कंपनी ने हाल ही में भारत में कदम रखा है, जो कि अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिती कि ओर इनका पहला कदम है। इन्होंने भारत व दक्षिण एशिया के लिये रामदास सुंदर को मैनेजिंग निदेशक नियुक्त किया है, जो कि व्यापार बढ़ंत व रणनीतियों का निदेशन व देखभाल करेंगे। इन्होंने कॉम्बटोर, तमिल नाड़ू में अपना कार्यालय स्थापित किया है।

Stoodnt का दावा है कि उन्होंने अभी तक करीब 1000 छोत्रों की सहायता करी है। उनकी वेबसाइट पर लिखा है की उन्होंने छात्रों को Harvard, Stanford, Yale और Cornell जैसे संस्थानों में प्रवेश लेने में सहायता करी है।

कंपनी के सह संस्थापक अजय सिंह ने कहा:

“कॉलेज प्रवेश बाज़ार बहुत ही बंटा हुआ, कम तकनीक वाला और फ़रेबी या पक्षपाती सुझावों से भरा है और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में गुणवत्ता भी प्रभावित है। हमारा उद्देश्य है डेटा, तकनीक व लोगों की सहायता से छात्रों को ज्ञान देना, उन्हें ऑनलाइन सहायता देना और ऐक्स्पर्ट सहायता उपलब्ध कराना है। मिलियनों छात्रों के जीवन में बदलाव लाने के प्रयास से राजन के जुड़ने से हम अत्यंत प्रसन्न हैं।”

भारत में Stoodnt को Collegeduniya, Shiksha.com, Careers360, आदि से प्रतिद्वंद झेलना पड़ेगा।ु

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन