ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Carbon Copy दुनिया भर में रजनीकांत के प्रतिकृती बेच कर ‘कबाली लहर’ का उठा रहे हैं लाभ

भारतीय मूल के पांच लोगों द्वारा संस्थापित एक सिंगापुरी स्टार्टप Carbon Copy, भारतीय बॉक्स ऑफ़िस की नवीनतम हिट कबाली की सफलता पर रजनीकांत द्वारा निभाये गये मुख्य किरदार के फ़िगरीन बेच कर खूब कमा रहे हैं।

Carbon Copy Collectibles द्वारा निर्मित 40,000 फ़िगरीनों के करीब 85% पीस जून मध्य से बिक चुके हैं। Carbon Copy Collectibles के सह-संस्थापकों में से एक, सुआरेन रामदास, 29 ने कहा:

“हम भारतीय सिनेमा इंडस्ट्री में जमा कर सकने वाली चीज़ें बनाने वालों के लिये पायनीर हैं।”

ये एक चेन्नई आधारित प्रोडक्शन हाउज़ का हिस्सा हैं। रजनीकांत द्वारा निभायी गयी 65 वर्षीय डॉन कबालीस्वरण की भूमिका को दुनिया भर में सराहा गया है। इन फ़गरीनों की बिक्री से इंडस्ट्री में अलग स्टाइल में जाने जाने वाले सूपरस्टार को बहतरीन रिस्पॉंस मिला है। कंपनी को कबाली के पबलिसिटी कैंपेनर ने भी चुना था।

हर 16.5 सेंटीमीटर लंबे पॉलिविनिल फ़िगरीन को सिंगापुर में 39.90 सिंगापुरी डॉलर में बेचा जा रहा है। ई-कॉमर्स दानव Amazon ने कबाली फ़िगरीनों को भारतीय बाज़ार में बेचने के लिये उन्हें खरीदा है और वहीं, मलेशिया में भारतीय प्रोडक्ट बेचने वाली Madura Stores ये फ़िगरीन बेच रही है।

इसका आइडिया उन्हें पश्चिमी सिनेमा कंपनियों से आया है, जो आइरनमैन और बैटमैन जैसी पर्सनैलिटियों के फ़िगरीन बेचने का चलन मानते हैं।

उन्होंने पहली बार ये बिक्री माणिक बाषा के किरदार के 2000 पीसो के साथ दिसंबर 2015 में शुरू किया था। फ़िल्म के 20 वर्ष पूरे होने के बाद भी उन्हें प्रतिक्रिया बहतरीन मिली, जिसके बाद उन्होंने कबाली को अपना केंद्र बना लिया, जो कि तमिल सूपरस्टार रजनीकांत का नवीनतम प्रोजेक्ट है।

इनके आइडिया के साथ, वे वैश्विक स्टार रजनी को नाम पर बहुत कमाई कर रहे हैं। हम तो यही कहेंगे कि “आपने तो कमाल ही कर दिया”।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन