खबर स्टार्टअप्स

Quikr को Brand Capital से नये सत्र में $20 मिलियन का निवेश: रिपोर्ट

निवेशों में आये धीमेपन से बचे रहने वाला Quikr एकमात्र स्टार्टप है। इन्होंने न केवल अपने प्रतिद्वंदी CommonFloor का बड़ा अधिग्रहण किया, परंतु पिछले वर्ष अप्रैल में अपना वैल्युएशन $900 मिलियन पहुंचते भी देखा। अब, LiveMint के ज़रिये खबर आयी है कि इनको Brand Capital से ₹130 करोड़ और का निवेश प्राप्त हुआ है।

Brand Capital, Bennett, Coleman and Co. Ltd. (BCCL) का एक निजी अंग है। इन्होंने 143,000 पूरी तरह कन्वर्ट होने वाले डिबेंचर ₹9,038 प्रति एक और इसी दाम का एक एक्विटी शेयर खरीदा है। ये जानकारी कंपनियों के रजिस्ट्रार के पास फ़ाइल करी गयी डॉक्युमेंटों में उजागर हुई।

डील के अंतर्गत ही, Brand Capital एक पूर्व निर्धारित समय के लिये Quikr को अपने प्रमुख मीडिया प्रॉपर्टियों में मीडिया कवरेज देगा। इन प्रॉपर्टियों में ET Now और Times Now जैसे न्यूज़ चैनल और The Times of India और The Economic Times जैसे अख़बार शामिल हैं।

साथ ही, Brand Capital की यह पहली ऐसी डील नहीं है। ये ₹500 करोड़ के लिये, ऐसी ही डील Flipkart के साथ करने के विचार में भी हैं। इन्होंने इस साल फ़रवरी में Snapdeal के साथ भी ऐसी ही डील करी थी।

निजी ट्रीटी डील कहलाने वाली ये डीलें, इन दिनों बहुत आम हो गयी हैं। परंतु ये पहले अच्छी नहीं मानी जाती थीं, क्योंकि बहुत से लोग इनपर झूठी मीडिया कवरेज देने का इल्ज़ाम लगाते थे।

BCCL के नाम पर पिछले एक वर्ष से Brand Capital नये स्टार्टपों में निवेश कर रहे हैं। इस वर्ष ही, इन्होंने अनेक स्टार्टपों में निवेश किया है।

इसमें Salebhai में किया गया $1.5 मिलियन का निवेश, फ़र्निचर रेंटल स्टार्टप CityFurnish, Meru Cabs, Edtech स्टार्टप iDreamCareer, कस्टमाइज़ कराने वाले ई-कॉमर्स मंच icustommadeit जैसे कुछ स्टार्टप शामिल हैं। इससे पहले फ़र्म ने Uber, Haptik, CourseEra, Delhivery, Voonik और Infibeam जैसे नामी स्टार्टपों में भी निवेश किये हैं।

वहीं दूसरी तरफ़, Quikr खुद अधिग्रहण और रणनैतिक निवेशों के मध्य बहुत व्यस्त रहा है। CommonFloor के अधिग्रहण के बाद, इन्होंने अपना ऑनलाइन रिक्रूटमेंट बहतर करने के लिये Hiree को अधिग्रहित किया था।

पिछले वर्ष, इन्होंने Indian Realty Exchange और रियल एस्टेट ऐनालिटिक स्टार्टप RealtyCompass को अपना रियल एस्टेट सेक्शन ‘QuikrHomes’ बहतर करने के लिय अधिग्रहित किया था।

परंतु, अधिग्रहण के बाद, फ़र्म ने CommonFloor के 150 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता भी दिखा दिया। इन्होंने हाल ही में CommonFloor द्वारा अधिग्रहित किये गये Flatchat को भी बंद किया। कंपनी ने कंसॉलिडेशन को इस निर्णय के पीछे का कारण बताया। इन्होंने ये भी कहा कि उन्होंने अधिग्रहण के बाद भी CommonFloor, RealtyCompass और IRX को चलाये रखा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन