खबर स्टार्टअप्स

Infosys अपने Innovation Fund के ज़रिये Stellaris Venture Partners में करेगी $15 मिलियन का निवेश

भारत की उच्चतम IT कंसल्टेंसी सेवा कंपनी Infosys एक भारतीय वेंचर कैपिटल फ़र्म में निवेश करने के लिये तैयार है। ETTech की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले से अवगत चार लोगों के अनुसार, Infosys, Stellaris Venture Partners में $15 मिलियन का निवेश करने के लिये तैयार है।

भले ही भारत में ये उनका पहला निवेश हो, परंतु Infosys ने इससे पहले सिलिकॉन वैली के शुरवाती चरण के वेंचर कैपिटल निवेश फ़र्म Vertex Ventures में निवेश किया था।

Stellaris Venture Partners में निवेश इनके $500 मिलियन के Innovation Fund से किया जायेगा, जो कि शुरवाती चरण के स्टार्टपों में निवेश करने के लिये अलग किया गया था। अभी तक Infosys ने इस Innovation Fund के ज़रिये सात स्टार्टपों में निवेश किया है। फ़ंड ने Trifacta, Waterline Data, WHOOP, CloudEnsure, Airviz Speck, ANSR Consulting और Nova में निवेश किया है।

Infosys Innovation Fund को 2015 में कंपनियों के व्यापार के कोर को बहतर करने के लिये उपाय बनाने वाले स्टार्टपें में निवेश करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया था। ये ऐसे स्टार्टपों को महत्वपूर्ण उपाय बनाने में सहायता देना चाहते थे जो कि Infosys जैसे ही विचार के हों – गहरे उपभोक्ता संबंध बना कर उसे आपसी विश्वास और इज़्ज़त पर स्थापित करना।

जहां Infosys $15 मिलियन का निवेश कर रही है, वेंचर फ़र्म का असल उद्देश्य काफ़ी बड़ा है। ये स्थानिय व वैश्विक निवेशकों से कुल $100 मिलियन का फ़ंड जमा करना चाहते हैं। मुद्दे से अवगत एक और व्यक्ति ने बताया कि वेंचर फ़र्म “बहुत से पैसे वाले परिवरों के लिये पैसे मैनेज करने वाले मैनेजरों के पास भी जा रहे हैं”।

Stellaris Venture Partners को आलोक गोयल, राहुल चौधरी और ऋतेष बंगलानी ने स्थापित किया था। तीनों पहले भारत के Helion Venture Partners में साझेदार थे। फ़र्म खुद को एक शुरवाती चरण का वेंचर फ़र्म बताता है, जो कि अगले जनरेशन की कंपनियों को सपोर्ट करने की बात करते हैं।

वेंचर फ़र्म का कहना है कि $2 ट्रिलियन की ईकॉनॉमी इस समय ~7% की रफ़तार से बढ़ रही है और दुनाय का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट उपभोक्ता स्पेस बन गयी है। ये तकनीक एनेबल कंपनियों के लिये एक बहुत बड़ा अवसर बन गयी है।

Infosys और Stellaris के निवेश की खबर ऐसे समय पर आयी है जब भारतीय सॉफ़्टवेयर सेवा दानव स्टार्टपों और तकनीक इनोवेशन में विश्व भर में हिस्सा ले रहे हैं। Infosys के साथ, Wipro और Tata Consultancy ने स्टार्टपों को सपोर्ट करना शुरू कर दिया है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन