खबर स्टार्टअप्स

CaratLane ने वरिष्ठ अधिकारी नियुक्तियों की घोषणा करी, कंपनी में Titan के शेयरों के बारे में भी बताया

2008 में मिथुन सचेती और श्रीनिवास गोपालन द्वारा गहनों को ऐक्सेसिबल, कम दाम के और हर समय पहने जा सकने वाले बनाने हेतु, मुंबई में स्थापित किये गये ऑनलाइन निजी लेबल गहना ब्रांड CaratLane के पास हमें देने के लिये आज बहुत सी खबरें हैं। कंपनी ने घोषणा करी कि उन्होंने दो सबसे वरिष्ठ अधिकारियों अविनाश आनंद और गुरुकीर्ती जी को सह-संस्थापकों के पद पर उन्नत कर दिया है। उन्होंने कंपनी में Titan के शेयरों के मूल्य की घोषणा भी करी है।

अभी तक अविनाश आनंद प्रोडक्ट व कैटेगरे के वरिष्ठ वाइस प्रेज़िडेंट थे और गुरुकीर्ती जी तकनीक व फ़ुलफ़िलमेंट के। इन दोनों प्रमुखों के साथ, कंपनी ने मिथुन को CaratLane का संस्थापक और सी.ई.ओ. भी घोषित किया। दो नये सह-संस्थापकों की पदोन्नती के बारे में बयान देते हुए संस्थापक व सी.ई.ओ. ने कहा:

“अविनाश व गुरु शुरू से ही CaratLane के विज़न के साथ जुड़े हुए हैं और उसे अपने कमिटमेंट व गुणवत्ता से पूरा करने के प्रयास में हैं। मुझे बहुत खुशी है कि वे दोनों मेरे साथ मिलकर आगे बढ़ेंगे… अविनाश व गुरु, दोनों के सह संस्थापक बनने के साथ, मुझे विश्वास है कि CaratLane के गहना पहनने व खरीदने के तरीके को बदलने के विज़न के हम और भी करीब आ जायोंगे।”

अविनाश व गुरु दोनों ही IIM से हैं। जहां पहले IIM लखनऊ के हैं, तो वहीं दुसरे IIM बेंगलुरु के। दोनों ने ही CaratLane को उसके स्थान पर पहुंचाने में बहुत सहयोग दिया है।

इन बड़ी घोषणाओं के साथ, CaratLane ने ये भी बताया कि Tata Group के Titan ने मई में उनके 1.91 करोड़ शेयर (1,91,42,545 शेयर) खरीदे हैं, वो भी ₹357.24 करोड़ में। कंपनी बहुत सा निवेश भी जुटा रही थी। उन्हें Tiger Global Management से $51 मिलियन प्राप्त हुए।

CaratLane शुरवात में एक बाज़ार मॉडल के साथ आया था, परंतु अब एक हर-चैनल का नेट्वर्क बन गया है। इनके पास पूरे देश में करीब 13 ब्रांड स्टोर हैं। पिछले वर्ष कंपनी ने अपनी वर्चुअली ट्राय ऑन ऐप भी लांच करी थी। Perfect Look App नाम की यह ऐप उपभोक्ताओं को बिना पहने ही गहने ट्राय ऑन करने की सुविधा देती है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन