खबर

शहरों के मध्य टैक्सी सेवा उपलब्ध कराने वाले Wiwigo को भारतीय एंजल नेट्वर्क से ₹4 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ

जहां भारत में एक शहर में ही यात्रा करने के लिये तो कैब सेवा बहुत ही बहतर हुई है – Uber की बदौलत, परंतु कैब में शहरों के मध्य यात्रा करना बहुत परेशान करने वाला है। और मुश्किल ये इस लिये भी है, क्योंकि राइडरों को एक तरफ़ की यात्रा करने के बाद भी दोनों तरफ़ों का भुगतान करना पड़ता है। इस परेशानी को दूर करने के लिये, और इस अलग पर लाभकारी बाज़ार को कैप्चर करने के लिये, हम अनेकों इंटर-सिटी कैब ऐग्रिगेटर स्टार्टपों को आते और फ़ंड होते देख रहे हैं।

इस श्रेणी से जुड़ने वालों में नवीनतम हैं Wiwigo, जिन्हें हाल ही में भारतीय एंजल नेट्वर्क से ₹4 करोड़ का सीड निवेश प्राप्त हुआ है। IAN निवेशकों प्रीयंक शंकर गर्ग और हर्ष चिताले ने इस निवेश सत्र की अगुवाई करी। प्रियंक कंपनी के बोर्ड से भी जुड़ेंगे।

स्टार्टप आपको शहरों के मध्य यात्रा करने के लिये कैब की ऑनलाइन बुकिंग करने की सुविधा देते हैं, और आपको किराया भी सिर्फ़ एक ओर का देना होता है। इस मॉडल के साथ, Wiwigo 40 शहरों में उपभोक्ताओं के 45% पैसे बचाने का दावा करती है। इस नये कैश के साथ, स्टार्टप वर्ष के अंत तक अपने ऑपरेशन 100 शहरों तक विस्तृत कर सकते हैं।

बाज़ार संभावनाएं विशाल हैं। इंटर सिटी रेंटल कार बाज़ार $9 बिलियन का है और ये 12% CAGR के साथ बढ़ रहा है। परंतु इसमें से अधिकतम बिखरा हुआ, अनियोजित और अनियंत्रित है। इस बाज़ार का अधिकारिक सरकारी अनुमान $3.5 बिलियन के करीब है।

Wiwigo के साथ कैब बुक करने का पूरा प्रोसेस स्वचलित हो जाता है – यात्री और चालक दोनों के लिये। आम तौर पर दोनों ओर का किराया इसलिये लिया जाता है, क्योंकि ये सुनिश्चुत नहीं होता कि वापसी की यात्रा चुनी जायेगी या नहीं। Wiwigo के मंच के प्रयोग से उपभोक्ता अपने एक तरफ़ की यात्रा का भुगतान ही कर सकते हैं और उनके नेट्वर्क का प्रयोग कर ऑपरेटर रिटर्न बुकिंग भी कर सकते हैं।

स्टार्टप के पास एक और एज है उनकी दरवाज़े से दरवाज़े की सेवा। इस क्षेत्र के अधिक लोग ये सेवा नहीं उपलब्ध करा रहे हैं। आप अपनी कैब को ट्रैक कर सकते हैं, यात्रा के अलर्ट ले सकते हैं और मंच पर अपना फ़ीडबैक भी डाल सकते हैं। इस कंपनी के अधिकतम कार्य Wiwigo के स्वचलित मंच से होते हैं और ये ऐक्शन कंपनी का ऐडमिन पैनल मॉनिटर और नियंत्रित करता है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन