ई-कॉमर्स खबर

Flipkart अपने फ़्लैगशिप ‘Big Billion’ इवेंट में ला सकता है बड़े बदलाव

अपने उच्च स्तरीय मैनेजमेंट बदलावों, मार्कडाउनों और बड़ी निकासियों के बाद भी Flipkart त्योहार के मौसम के अपने सालाना कार्यक्रम के लिये तैयार हो रहा है, परंतु उसमें कुछ बड़े बदलाव लाकर। ताकि पहले की तरह बवाल न खड़ा हो इसलिये कंपनी ‘Big Billion Day’ (BBD) पर बहुत ध्यान केंद्रित कर रही है।

एक ही दिन ये सेल कराने की जगह, कंपनी इसे अक्टूबर में कुछ दिनों तक फैला के रखने के विचार में है। एक रिपोर्ट (ET द्वारा) के मुताबिक, इससे ई-कॉमर्स दानव को डिलिवरी व उपभोक्ता सेवा पर और भी नियंत्रण मिलेगा।

“BBD को पहले 15-16 अकेटूबर के लिये प्लान किया गया था, परंतु Flipkart ने इसे पहले कर के अक्टूबर को पहले दिनों/सप्ताहों के लिये तय कर दिया है। अभी चर्चा चल रही है कि पहला BBD बड़ा होगा, फिर मध्यम BBD और फिर सबसे छोटा।”

एक सूत्र ने बताया।

Flipkart उपभोक्ताओं के लिये लेंडरों की मदद से एक ‘अभी खरीद कर बाद में भुक्तान करो’ स्कीम लाने के विचार में भी हैं। स्कीम जितनी आसान सुनाई पड़ती है, उतनी ही आसान भी है – कुछ विक्रेता, उपभोक्ताओं को सेल के दौरान सामान खरीदने देकर भविष्य में भुक्तान करने की सुविधा देंगे, बिलकुल क्रेडिट कार्ड भुक्तान की तरह। परंतु इस स्कीम से संबंधित सबसे बड़ी दिक्कत वापसी पॉलिसी और ये कैसे काम करेगी उससे संबंधित है।

“Flipkart अनेकों बैंकों से इन लोनों को देने के लिये बात कर रही है, जो कि उनके द्वरा अंडर-राइट किया जायेगा। Flipkart सिर्फ़ अपने लोन प्रोडक्टों को लांच करेंगे, जिससे वे BBD पर पुनः खरीद को बढ़ावा दे सकें।”

स्त्रोतों ने कहा।

कल्याण कृष्णमूर्ती, जिन्होंने हाल ही में श्रेणी निदेशन के प्रमुख बन कर Flipkart को वापस जॉइन किया था, पर ही इस विशाल फ़्लैगशिप सेल इवेंट की ज़िम्मेदारी है। कृष्णमूर्ती, जो कि Tiger Global Management में एम.डी. हैं, ने पहले ‘Big Billion Day’ में भी हिस्सा लिया था।

Flipkart का मानना है कि लगातार हानियों के बाद भी, ‘Big Billion Day’ उन्हें उनके प्रतिद्वंदियों Snapdeal, Amazon और PayTM की सेलों से बहतर स्थान उपलब्ध करायेगा। सेल मुख्य रुप से मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक्स, बड़े अप्लायंसों और लाइफ़स्टाइल श्रेणियों पर केंद्रित होगी।

और उपभोक्ताओं को अपने मोबाइल व ऐप मंच कि ओर और भी आकर्षित करने के लिये इन्होंने पहले ही अपना ऑनलाइन प्रचार बजट बढ़ा लिया है। वहीं अपने मोबाइल मंच पर केंद्रित रहते हुए भी, ये यूज़रडेटा का प्रयोग कर विशेष उपभोक्ताओं के लिये अपनी प्रचार व लोन स्कीम का प्रयोग करेंगे। लोन प्रयास उन्हें उपभोक्ताओं की वित्तीय स्थिती जानने में सहायता करेगा।

Flipkart बिलकुल भी अपने पहले ‘Big Billion Day’ पर नहीं जाना चाहेगा, जब उनसे सरकार ने रीटेल नियमों को तोड़ने के संबंध में प्रश्न किये थे। उन्होंने तब ई-कॉमर्स कंपनियों को बड़ी रीटेल सेल ईवेंट कराने से मना किया था, जिससे वे सीधे या किसी भी अन्य तरीके से सामानों और सेवाओं के दाम को बदल न सकें।

परंतु कंपनियों ने ये कहते हुए ये सेल जारी रखी हैं कि सामानों पर छूट विक्रेता उपलब्ध कराते हैं, वे स्वयं नहीं। साथ ही, सराकर ने इन ई-टेलरों व उनकी बड़ी सेलों के प्रति अपना रुख नरम कर लिया है।

उनकी पहली सेल की $100 मिलियन कमाई के मुकाबले $300 मिलियन के साथ उन्होंने पिछली ‘Big Billion Day’ सेल में तीन गुणा लाभ प्राप्त किया था। और इन $300 मिलियनों में स्मार्टफ़ोनों (मुख्यतः 4G) ने अकेले ही इसका दो तिहाई हिस्सा बनाया था।

Flipkart के लिये आखिरी मौका

अगर वे दिखाना चाहते है कि वे अभी भी भारत के बाज़ार लीडर हैं, तो Flipkart की इस सेल का सफल होना अनिवार्य है। और एक सफल सेल वैल्युएशन मार्कडाउनों को नींचा दिखाने के लिये भी पर्याप्त होगी, जिससे ये साबित हो जायेगा कि कंपनी के पास उसकी जगह हथियाने के लिये ताक में बैठी चीलों (Amazon) से लड़ने की क्षमता अभी भी है।

Amazon इस समय भारत के ई-कॉमर्स बाज़ार का लीडर बनने हेतु प्रयास कर रहा है और पहले ही इस होड़ में Snapdeal को पछाड़ चुका है। साथ ही, ये अमेरिकी ई-कॉमर्स दानव भविष्य में अपने भारतीय अंग पर $3 बिलियन और लगाने के विचार में है।

परंतु भारत में एक और ऐसी एंटिटी है जो कैश से लदी पड़ी है और निकट भविष्य में अपने व्यापारों को अलग कर के अपनी ई-कंमर्स एंटिटी को एक नये नाम से ला सकती है। ऑनलाइन बाज़ारों में 100% FDI के इनवॉल्वमेंट के बाद, उम्मीद करी जा रही है कि PayTM भारत मे चीनी ई-कॉमर्स दानव Alibaba का लांचपैड बनेगा। और वे कुछ भी छोटे स्तर का नहीं करते। चीन में Alibaba की ‘Big Billion Day’ सेल Flipkart से कई गुणा अधिक बड़ी है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन