खबर डिजिटल इंडिया

Axis Bank स्टार्टपों द्वारा बैंकिंग में बदलाव लाने के लिये “Thought Factory” नाम की इनोवेशन लैब ला रहा है

फ़िनटेक इस समय चरम पर है – और हमारे जैसे देश में हो भी क्यों न, जहां अधिकतम लोग ग्रामीण हैं और उनमें से आधे से अधिक लोगों को बैंकिंग की सुविधा नहीं मिलती है। इसी का फ़ायदा उठाते हुए, Axis Bank ने स्टार्टपों को सपोर्ट करने के लिये Thought Factory नाम की इनोवेशन लैब शुरू करी है।

ये ऐसे स्टार्टपों कि ओर केंद्रित होंगे जो बैंकिंग क्षेत्र में बदलाव ला सकें। लैब में एक इन-हाउज़ इनोवेशन टीम और एक ऐक्सेलेरेटर प्रोग्राम होंगा, जो कि नये दौर के स्टार्टपों के साथ नये दौर के बैंकिंग उपाय बनायेंगे।

कमाल कि बात है, कि Axis Bank पहला ऐसा भरातीय बैंक है जिसने स्टार्टपों के लिये एक्स्क्लूज़िव इनोवेशन लैब की शुरवात करी हो। बेंगलुरु में 10000 स्क्वायर फ़ीट में फैली हुई Thought Factory में, ब्लॉक चेन, कृत्रिम बुद्धी, मोबिलिटी और क्लाउड जैसी नयी तकनीकों पर प्रयोग किया जायेगा।

ये क्रेडिट, डिपॉज़िट, वित्त मैनेजमेंट, मोबाइल भुक्तान और सुरक्षा जैसे बैंकिंग के पारंपरिक तरीकों में डिसरप्शन लाने के लिये केंद्रित होंगे। Thought Factory के लांच कार्यक्रम पर Axis Bank के एक्ज़ेकेटिव निदेशक (रीटेल बैंकिंग), राजीव आनंद ने कहा:

“जिस तरह से वित्त इंडस्ट्री में बदलाव आ रहे हैं, और कैसे मिलेनियल, इंडस्ट्री को पुनः इमेज दे रहे हैं, हम उससे बहुत उत्साहित हैं। हमारी इनोवेशन लैब ‘Thought Factory’ इनोवेटरों के आइडियाओं पर बिल्ड कर बैंकिंग व अन्य क्षेत्रों में उपभोक्ताओं के जीवन में बदलाव लाने का प्रयास करने के लिये स्थापित की गयी है। इस प्रयास के साथ, हम वैश्विक बैंकों, स्टार्टपों व तकनीक इनोवेटरों का एक रंग-बिरंगा समाज बना रहे हैं।”

मेंटरशिप व निवेश के लिये Thought Factory का स्टार्टप ऐक्सेलेरेटर

अपने स्टार्टप ऐक्सेलेरेटर के लिये, Axis Bank ने Zone Startups के कार्यक्रम Thought Factory के अंतर्गत चलाने के लिये उनके साथ साझा कर लिया है। तीन महीनों तक तलने वाला प्रोग्राम, चुने गये स्टार्टपों को स्ट्रक्चर किया हुआ मेंटरशिप प्रोग्राम उपलब्ध करायेगा। इसका 6-7 स्टार्टपों का पहला बैच पहले ही मुंबई में शुरू किया जा चुका है। ये अपना दूसरा बैच जुलाई में बेंगलुरु में शुरू करेंगे।

अंत होते-होते, ये एक निवेशक दिवस का आयोजन करेंगे, जहां ये शॉर्टलिस्ट किये गये स्टार्टपों के लिये निवेशकों व वेंचर कैपिटल निवेशकों को ला सकते हैं।

बैंक ने ‘हैक फ़ॉर हायर’ नाम के एक प्रोग्राम का भी लांच किया। ये देश भर में हैकाथॉन का आयोजन करवायेंगे, जिनके ज़रिये ये Thought Factory के लिये इन-हाउज़ कर्मचारियों का चुनाव कर सकें।

भविष्य में, इन स्टार्टपों में निवेश करने के लिये Axis Bank ने अपना खुद का फ़ंड शुरू करने के संकेत भी दिये। भारतीय स्टेट बैंक के पास स्टार्टपों के लिये पहले ही ऐसी सुविधा है। साथ ही, Axis Bank वित्त तकनीक प्रोफ़ेशनलों के मध्य एक प्रतिद्वंदी मंच बनाने के विचार में भी है। मंच के अंतर्गत, वे तकनीक का प्रयोग कर व्यापार संबंधित परेशानियां सुलझाने में सहायता करेंगे।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन