खबर

Tata Companies और Uber ने चालकों के माइक्रो-विक्रेता बनने को और आसान बनाने के लिये एक नयी साझेदारी की घोषणा करी

भारत की सबसे विशाल, $100 बिलियन से भी ऊपर रेवेन्यू वाली कंपनी Tata Companies और Uber ने एक साझेदारी की घोषणा करी, जिसके तहत वे वाहन खरीद और Uber मंच पर चालक साझेदाओं के लिये मालिकाना विकल्प उपलब्ध करा सकें। इससे Uber के किराये पर कार लेने के प्रोग्राम को भा सफलता प्राप्त होगी, जिससे सड़कों पर Uber कारें बढ़ायी जी सकें।

इस नयी साझेदारी के तहते, Uber पर चालक और कार के मालिक Tata Motors से कम ईंधन खाने वाली गाड़ियां खरीद सकेंगे।

Tata Capital Financial Services और Tata Motors Finance उन्हें इन कारों को ख़रीदने के लिये विशेष प्लान उपलब्ध करायेंगे। वे Tata AIG से बीमा भी ले सकते हैं। पिछले वर्ष Tata Opportunities Fund ने Uber में $75 मिलियन – $100 मिलियन के बीच का निवेश किया था, जिससे ये साझेदारी और भी प्रासंगिक हो जाती है।

Tata Sons में ग्रुप अधिकारिक काउंसिल के मेंबर और व्यापार विकास और पबलिक अफ़ेयर के ग्रुप प्रमुख मधु कानन ने कहा:

“हम Uber के साथ अपने संबंध को आगे लेजाकर बहुत खुश हैं और उनकी तकनीक और Tata Companies की गुणवत्ता और पहुंच का प्रयोग करेंगे।”

इन नयी वाहन उपाय सेवाओं के प्रयोग के लिये इन चालकों को Tata Business Support Services से ऑपरेश सहायता भी मिलेगी।

भारत में माइक्रो-उद्दम को बढ़ावा देना

Uber इस प्रयास को हैदराबाद से शुरू कर पूरे भारत में लांच करेगी। आने वाले एक वर्ष में ये प्रयास देश के माइक्रो-उद्यमियोॉ को बढ़ावा देने के लिये विस्तृत किया जायेगा। ये करीब 20,000 चालकों को मंच पर अपना खुद का व्यापार शुरू करने की आज़ादी देगा।

इस माइक्रो उद्यम को बढ़ावा देने वाले प्रयास के बारे में बात करते हुए Uber Asia के व्यापार प्रमुख एरिक ऐलेक्ज़ैंडर ने कहा:

“Uber ने भारत में मिलियनों का एक बटन दबा कर राइड लेना और काम करना मुमकिन किया है। चालकों से बात कर के ये स्पष्ट है कि उनके लिये नम्यता और आज़ादी कितनी ज़रूरी है। इसी लिये, हम Tata के साथ कार्य कर के चालकों के रोड पर आने को और आसान बनाने और भारत में माइक्रों उद्यम को बढ़ावा देने के लिये उत्साहित हैं।”

Uber के किराये की कार प्रोग्राम को बढ़ावा

Uber के कार किराये पर लेने के प्रोग्राम को तो लाभ है ही। US के कैब-लेने की कंपनी ने पिछला वर्ष भारत में कार किराये पर लेने के प्रोग्राम को लांच किया था। और इस कदम से प्रोग्राम को और भू प्रोत्साहन मिलेगा। इन्होंने हाल ही में इसे और बढ़ावा देने के लिये कार किराये पर देने वाले फ़र्म Xchange Leasing में ₹43 करोड़ का निवेश किया।

प्रोग्राम के अंतर्गत Uber चालकों को पूर्व निर्धारित सुरक्षा डिपॉज़िट और मासिक किराये पर वाहन उपलब्ध कराती है। चालक तीन वर्षों बाद कार को अपना बना सकते हैं, जो कि ऐसे चालकों के लिये एक बहुत ही आकर्षक प्रस्ताव है जो अपनी खुद की कार लेना चाहते हैं।

Tata के इस नये प्रयास से चालक और कार मालिक और भी आकर्षित होंगे और क्योंकि उन्हें Tata ग्रुप की नयी कारों पर फ़ाइनैंस व बीमा मिल रहा है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन