ई-कॉमर्स खबर

उत्तर प्रदेश सरकार ने ई-कॉमर्स सामान पर लगाया 5% प्रवेश कर

जहां एक तरफ़ केंद्रीय सरकार देश में व्यापार को आसान बनाने के लिये बदलाव ला रही है, वहीं दूसरी तरफ़ राज्य सरकारें देश में फलते ई-कॉमर्स के लिये नये नये करों के साथ सामने आ रही हैं। गुजरात, असम, उड़ीसा, बिहार, उत्तराखंड, राजस्थान और मिज़ोरम के बाद अब उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने ई-कॉमर्स से खरीदे गये सामान पर प्रवेश कर लगाने का निर्णय लिया है।

आज एक कैबिनेट मींटिंग में, अखिलेश यादव की अगुवाई में उत्तर प्रदेश सरकार ने ई-कॉमर्स से खरीदे गये सामानों पर 5% अधिक प्रवेश कर लगाने के प्रस्ताव को पारित किया है। यह प्रस्ताव लाखों ऑफ़लाइन ट्रेडरों और रीटेलरों के याचिका के उत्तर में था, जो कि ऑनलाइन शॉपिंग के कारण व्यापार खो रहे थे।

एक सरकार के वक्ता ने कहा:

“बहरहाल, ई-कॉमर्स कंपनियां सरकार को किसी भी प्रकार का कर नहीं दे रही थीं। वहीं पारंपरिक रीटेलर पहले से ही प्रवेश कर दे रहे हैं।”

उत्तर प्रदेश के साथ ही, मध्य प्रदेश, पंजाब और हिमाचल प्रदेश की सरकारें अपने राज्य में ई-कॉमर्स सामान पर प्रवेश कर लगाने की सोच रही हैं। और ज़ाहिर सी बात है, ई-कॉमर्स कंपनियां इससे बहुत खुश नहीं हैं।

Flipkart ने पहले ही कलकत्ता व उत्तराखंड सरकारों के विरुद्ध अधिक कर लगाने के कारण मुकदमा कर दिया है और इस कर को भेदभाव पूर्ण और अधिक बोझ बताया है। कलकत्ता उच्च न्यायालय के सरकार के निर्णय पर रोक लगाने से इन्हें बंगाल में तो थोड़ी सफलता मिली है।

परंतु पश्चिम बंगाल सरकार न्यायालय के इस निर्णय के विरुद्ध उच्चतम न्यायालय में अपील करने के विचार में है और अगर दूसरे राज्यों के उच्च न्यायालय भी Flipkart व दूसरी ई-कॉमर्स कंपनियों के पक्ष में फ़ैसला सुनाते हैं, तो दूसरे राज्यों की सरकारें भी ऐसा कर सकती हैं।

सॉफ़्टवेयर और सेवा कंपनियों के राष्ट्रीय असोसियेशन (NASSCOM) ने भी इन कंपनियों का पक्ष लिया है। NASSCOM के मुताबिक, राज्य भारत में बाज़ार ऐक्सेस के लिये रुकावट पैदा कर रहे हैं, जो कि अंत में SME (छोटे व मध्यम-वर्गीय एंटरप्राइज़ के) ट्रेडरों पर और दबाव डालेगा।

उन्होंने आगे कहा कि आने वाले GST कर बदलाव के बाद, ई-कॉमर्स कंपनियों को भी अपने सिस्टम को सुधार कर अपग्रेड करना होगा, जिससे वे नये करों से जूझ सकें। ये कमर्शियल रूप से बहुत असाहयक है, क्योंकि ये है भी बहुत कम समय के लिये।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन