खबर स्टार्टअप्स

ऑनलाइन गृह की साज-सज्जा के बाज़ार BedBathMore में Rocket Internet एवं अन्य निवेशकों ने किया निवेश

आपके घर की साज-सज्जा और फ़र्निशिंग ज़रूरतों को ऑनलाइन पूरा करने वाले स्टार्टप BedBathMore ने घोषणा करी कि उनको नये सत्र में निवेशों की प्राप्ति हुई है।

इस सत्र में स्वीडी बैंक AB Kinnevik Group, जर्मनी के Rocket Internet और FabFurnish (जिसका हाल ही में Future Group ने अधिग्रहण किया) के कुछ निवेशकों ने हिस्सा लिया।

इससे पहले BedBathMore और FabFurnish के मर्जर की ख़बर भी आयी थी परंतु ये डील पूरी नहीं हुई। कंपनियों के रजिस्ट्रार के समक्ष फ़ाइलिंग में लिखा गया था कि इस वर्ष मार्च में कंपनी को FabFurnish के निवेशकों से एक्विटी में ₹3.5 करोड़ हैं।

कंपनी फ़र्निशिंग व साज सज्जा का बाज़ार बन कर, लीड जनरेशन को रेवेन्यू का मुख्य स्त्रोत बनाना चाहती है। ये एक लुकबुक बनाने पर केंद्रित रहेंगे, जिसके आधार पर उपभोगता इनके बाज़ार से सामान मंगा सकें।

BedBathMore को सी.ई.ओ. अमित डालमिया ने कहा:

हम अनेक फ़ीचर लाने की तैयारी कर रहे हैं, जहां उपभोगत अनेक लुक देख सकें, लुक ख़रीद सकें और मंच पर इंटीरियर डिज़ाइनरों से राय ले सकें।

अमित डालमिया द्वारा संस्थापित BedBathMore को एक गृह फ़र्निशिंग प्रोडक्टों के बाज़ार के रूप में स्थापित किया गया था, परंतु इन्होंने अपना व्यापार मात्र-प्ले कॉमर्स मॉडल से कंटेंट-कम्युनिटी-कॉमर्स मॉडल में बदल लिया। अब ये खुद को ई-कॉमर्स से अधिक खोज मंच के रूप में दर्शा रहे हैं।

कंपनी ने नयी सेवाएं जोड़ने के लिये पेंट कंपनियों, डिज़ाइनरों और आर्किटेक्टों समेत इंटीरियर क्षेत्र के सेवा उपलब्ध कराने वाले कई लोगों से साझा किया था। अपने घर से प्रेम करने वालों के लिये कंपनी डिजिटल सेटिंग में बहतरीन प्रोडक्ट लाने के उद्देश्य के साथ दो स्टार्टपों – Crude Area और Homado.com – को अधिग्रहित-नियुक्त कर चुकी है।

BedBathMore दूसरे स्टार्टपों से अलग हैं, क्योंकि ये भारत का एकमात्र ऐसा स्टार्टप हैं, जिसने ऑनलाइन उपभोगताओं के लिये एक पूरा गृह उपाय बनाने के लिये कंटेंट, कम्युनिटी और कॉमर्स को एक में जोड़ दिया है।

पिछले साल खबर आयी थी कि कंपनी विस्तार के लिये $20 मिलियन का निवेश करने और उपभोगताओं से $7-$10 मिलियन का निवेश अर्जित करने का विचार कर रही है। अभी तक कंपनी को विजय अग्रवाल और Blume Ventures से प्रमोशन व अंदरूनी निवेश प्राप्त था।

रिपोर्टों के मुताबिक, देश का होम फ़र्निशिंग ई-कॉमर्स क्षेत्र ₹600,000 करोड़ का है और 215% के तीन डिजिट की ग्रोथ दर देख रहा है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन