ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Snapdeal लॉजिस्टिक्स के लिये बना रहा है बहतर ऑनलाइन मंच, साझेदारों के लिये जुड़ना होगा अनिवार्य

भारत की बढ़ती ई-कॉमर्स ज़रूरतों के कारण लॉजिस्टिक्स सभी ई-कॉमर्स कंपनियों का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है, जिसके कारण सभी कंपनियां एक बहतर लॉजिस्टिक्स नेट्वर्क बनाने में निवेश कर रही हैं। इसी लक्ष्य कि ओर, Snapdeal अपने लॉजिस्टिक्स ऑपरेशनों में सहायता प्राप्त करने के लिये एक नया प्लग व प्ले मंच बना रही है, सभी लॉजिस्टिक्स साझेदारों को इससे जुड़ना अनिवार्य होगा।

नया मंच कंपनी को अपनी डिलिवरी कपैसिटी 20 गुणा बढ़ा देगा और लॉजिस्टिक प्रोसेस में मैनुअल हस्ताक्षेप भी कम करेगा। Snapdeal के मुख्य उपभोगता अनुभव अधिकारी जयंत सूद के अनुसार, मंच अभी टेस्टिंग फ़ेज़ में ही है और जल्द ही पूरी तरह लांच कर दिया जायेगा।
ये ध्यान रखने वाली बात है कि Snapdeal ने इस लॉजिस्टिक्स अंग में पिछले दो वर्षों में करीब $300 मिलियन (करीब ₹2000 करोड़) का निवेश किया है। इन्होंने अपनी सप्लाय चेन व लॉजिस्टिक्स बहतर करने के लिये GoJavas में भी करीब $20 मिलियन का निवेश कर रखा है।

लॉजिस्टिक्स का एक बड़ा हिस्सा है छोटे शहरों में स्थानीय कंपनियों द्वारा शिपमेंट डिलिवर करवाना, जो कि अधिकतम ऐसे शहर होते हैं जहां अभी बड़ी लॉजिस्टिक कंपनियों की कोई पहुंच नहीं है।

Snapdeal ने स्थानीय साझेदारों से इसी के लिये साझे तो किये हैं, परंतु स्थानीय कंपनियों के पास तकनीक की कमी के कारण पार्सल की एंड-से-एंड विज़िबिलिटी बनाये रखना थोड़ा मुश्किल है।

और ऐसी स्थानीय कंपनियों को तकनीक से लैस करना थोड़ा मुश्किल कार्य है परंतु कंपनी इस नयी तकनीक मंच से यही करने का प्रयास करेगी।

मंच साझेदारों को मुफ़्त में उपलब्ध कराया जायेगा और उनके सिस्टम से API (ऐप्लिकोशन प्रोग्राम इंटरफ़ेस) के ज़रिये जोड़ दिया जायेगा।

उन्हें ऐसा ऐप भी उपलब्ध करायी जायेंगे जो कि न केवल Snapdeal, बल्कि दूसरी ई-कॉमर्स कंपनियों के इनके ऑपरेशन में भी सहायता करेगी।

कंपनी के मुताबिक ये नया स्मार्ट प्लग व प्ले तकनीक उपाय साझादार की कपैसिटी के अनुसार स्मार्ट वॉल्यूम ऐलोकेट कर के डिमांड बदलाव का स्मार्ट मैनेजमेंट करने में सहायता करेगा।

दूर दराज क्षेत्रों में आखिरी मील डिलिवरी संभव करने के साथ ही, ये मंच दिल्ली जैसे शहरों में भी FMCG प्रोडक्टों की डिलिवरी संभव करायेगा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन