खबर डिजिटल इंडिया स्टार्टअप्स

अपूर्व पाटनी 20 स्वास्थ्य-केयर स्टार्टअप्स में $15 मिलियन तक का करेंगे निवेश

Currae Healthcare Fund के निदेशक और भारत की कुछ प्रचलित इलेक्टिरॉनिक्स कंपनियों में से एक, पाटनी कम्प्यूटर्स के संस्थापक अपूर्व पाटनी ने यह घोषणा करी कि वे हेल्थकेयर स्टार्टअप्स में $15 मिलियन के करीब का निवेश करेंगे, LiveMint ने रिपोर्ट किया।

निवेश Currae Healthcare Fund के ज़रिये किया जायेगा। अभी तक इन्होंने 7 हेल्थकेयर स्टार्टअप्स में करीब ₹10 करोड़ निवेश किया है, पर ये अब इसे 20 के करीब स्टार्टअप्स के साथ $15 मिलियन से ऊपर ले जाना चाहते हैं।

हेल्थकेयर सेवाओं में Currae ब्रांड के लांच की अगुवाई के साथ अपूर्व हेल्थकयर व IT क्षेत्रों के विभिन्न व्यापारों के विस्तार और इनक्युबेशन में भी कार्य कर रहे हैं। वे हेल्थकेयर क्षेत्र के डिसरप्टिव स्टार्टपों में निवेश भी कर रहे हैं।

Patni Healthcare Ltd के निदेशक अपूर्व ने कहा:

हमने समझा कि हेल्थकेयर एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें सेवाओं की ज़रूरत है। 2015 तक हेल्थकेयर इंडसिट्री $100 बिलियन की थी, और 2017 तक ये $160 बिलियन का व्यापार हो जायेगा। इसी लिये, हेल्थकेयर क्षेत्र में अनंत संभावनायें हैं।

इससे पहले वे ऑनलाइन पैरेंटिंग व शिशु केयर स्टार्टप BabyChakra, बच्चे की देखभाल स्टार्टप Allishealth, Mapmygenome और ऑनलाइन मॉलिकुलर डॉयग्नॉस्टिक कंपनी Wrig Nanosystems में निवेश कर चुके हैं।

BabyChakra बैंगलोर में आधरित पैरेंटिंग व शिशु केयर स्टार्टप है। इन्हें मुंबई एंजलों व सिंगापुर एंजल नेट्वर्क का सहयोग भी प्राप्त है और ये 250,000 के करीब अभिभावकों को 5,500 स्थानीय सेवा उपलब्ध कराने वालों से जोड़ चुके होने की दावा करते हैं।

MapMyGenome, Genomepatri जैसे प्रिडिक्टिव टेस्ट उपलब्ध कराता है और इसे CMS Computers Ltd की मैनेजिंग डायरेक्टर आरती ग्रोवर और Google भारत के मैनेजिंग डायरेक्टर राजन अनंदन का समर्थन भी प्राप्त है।

Currae Hospitals के अंडर, अपूर्व पतनी 2020 तक 30 अस्पताल बनाने के लिये ₹500 करोड़ तक लगायेंगे। उन्होंने पहले ही हड्डी-स्पाइन, जच्चा-बच्चा और नेत्र जैसे क्षेत्रों में कोलकत्ता व मुंबई में चार अस्पताल स्थापित कर लिये हैं, जिनमें उन्होंने ₹100 करोड़ की निवेश किया है।

हेल्थकेयर बाज़र के बारे में बात करते हुए एंजल निवेशक और Indian Angels Network के निदेशक पद्मजा रूपरेल ने कहा:

एंजल निवेशक ऐसे क्षेत्रों में निवेश करते हैं जिनमें ‘ज़रूरत’ हो न कि ‘इच्छा’ और हेल्थकेयर ज़रूरत में है। तकनीक इनेबलमेंट से न केवल कंपनी को विस्तार करने का मौका मिलता है, बल्कि अंत उपभोगता के लिये ये दाम कम भी करता है, जिससे एंजल निवेशकों को आकर्षित किया जा सके।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन