ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Infibeam 21 मार्च को अपने ₹450 करोड़ के आईपीओ के लिए तैयार

भारत अपने पहले ई-कॉमर्स IPO के लिये तैयार है। गुजरात की Infibeam, जो कि Infibeam.com, BuildaBazaar, Incept और Picsquare जैसी ऑनलाइन प्रॉपर्टियों के मालिक हैं, ने इस क्षेत्र में आगे बढ़ के 21 मार्च को अपना IPO लांच कर निवेश जुटाने का सबसे प्रचलित तरीका अपना रहे हैं।

कंपनी ने स्टार्टपों के लिये रिकमेंड किये गये SEBI को भी न चुन के, मुख्य स्टॉक एक्स्चेंजों BSE और NSE में लिस्टिंग के लिये जाने का निर्णय लिया है। बदलावों को बार करते हुए, कंपनी ने अपने IPO के दाम को प्रति एक्विटी शेयर ₹360-432 रखा है।

Infibeam इस क्षेत्र में अपने पहले कदम के साथ ₹450 करोड़ का निवेश जुटा लेना चाहते हैं, वे भी लांच के दो दिन के अंदर। कंपनी ने कहा कि यह निवेश अनेक चीज़ों में प्रयोग होंगे, जैसे क्लाउड डेटा सेंटर बनाने और कंपनी का कॉर्पोरेट कार्यालय स्थानांतरित कर सेटप करने में। Infibeam एक्विटी बेच कर आने वाले निवेश से देश भर में 75 लॉजिस्टिक सेंटर भी बनाना चाहती है।

जहां शुरवाती वेंचरों में ₹235 करोड़ लग जायेंगे, लॉजिस्टिक सेंटर बनाने में ₹37.5 करोड़ ही लगेंगे, जिससे इनके पास दूसरे कार्यों के लिये बहुत पैसे बचेंगे। कंपनी के पास अभी देश के 12 शहरों में 13 लॉजिस्टिक सेंटर हैं, तो यह कदम इन्हें एक बड़ा धक्का देकर, इनकी क्षमताओं को छः गुणा तक कर देगा।

कंपनी अपनी हानियों को कम कर पिछले छः महीनों में ₹6 करोड़ के लाभ कमाने में सफल रही है, पर इनकी बढ़ती विस्तार ड्राइव के कारण, यह IPO के लांच के अगले दिन ही लाभकारी हो जायें, यह मुश्किल है।

परंतु Infibeam का कार्य भी काबिले तारीफ़ है, जिसके बिनाह पर बिना अधिक बाहरी निवेश व सहायता के यह अभी तक व्यापार में हैं, और यह पहली बार है कि यह इतना बड़ा कैपिटल जुटाने जा रहे हैं।

बहरहाल, यह देखने योग्य होगा, कि जनरल निवेशक, या पबलिक – ई-कॉमर्स में निवेश करने के प्रति कैसी प्रतिक्रिया देते हैं – जहां अधिकतर निवेशकों व वेंचर कापिटलिस्टों ने निवेश के बाद भी रिटर्न न मिलने से अपने हाथ पीछे खींच लिये।

Infibeam के IPO के आने के एक सप्ताह के अंदर HealthCare Global Enterprises (HCG) और Bharat Wire Ropes भी IPO लांच करेंगे।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन