खबर मेक इन इंडिया स्टार्टअप्स

Oracle ने बेंगलुरु में कैंपस समेत नये उपक्रमों के लिये $400 मिलियन के निवेश करी घोषणा

मेक इन इंडिया, स्टार्टप इंडिया व ऐसी अनेक चल रही पहलों से जुड़ने वाले बड़े प्रोद्योगिकी व्यापारसंघो में नवीनतम नाम है विशालकाय अमेरिकी सॉफ़्टवेयर कंपनी, Oracle का।

अपने भारत दौरे में Oracle की सी.ई.ओ. सफ़रा कैट्ज़ ने बेंगलुरु में $400 मिलियन डॉलर का निवेश करने की घोषणा करी, जिसके उपयोग से वहां US के बाहर Oracle का दूसरा सबसे बड़ा कैंपस बनायेंगे।

साथ ही, वह नौ इनक्युबेशन सेंटर बनाने की और विस्तार चरण में रह वर्ष आधे मिलियन लोगों को कंप्यूटर को ट्रेन करेंगे, जिससे भारत और बुलंदियों को छू सके। “हम पूरी दुनिया के लिय ‘भारत में बनायेंगे’।” कैट्ज़ ने कहा।

Oracle प्रधानमंत्री मोदी के ‘Make in India’ प्लान को बढ़ावा देंगे और भारत को विश्व स्तरीय डिज़ाइन व मैनिफ़ैक्चरिंग हब के रूप में स्थान को और मज़बूत करेंगे।

प्रधान मंत्री कार्यालय से बयान।

बेंगलुरु के 2.8 मिलियन स्क्वेयर फ़ुट के कैंपस में इंजीनियरिंग, प्रचार, सेल्स, वित्त, कंसल्टिंग के 11,000 कर्मचारी रहेंगे और उम्मीद है कि यह देश में ऑपरेशन का एपीसेंटर बन जायेगा।

इनके वैश्विक 1,30,000 कर्मचारी बेस में से 40,000 पहले ही भारत में हैं, जिससे यह इनके कर्मचारियों के बेस में भी US के पीछे दूसरे पायदान पर है। कंपनी अनेक ऑपरेशनों के लिये 2,000 और लोगों के रखना चाहती है। साथ ही नौ इन्क्युबेशन सेंटर बेंगलुरु, चेन्नई, गुड़गांव, हैदराबाद, मुंबई, नोएडा, पुणे, त्रिवेंद्रम और विजयवाड़ा में होंगे।

यह (नौ) सेंटर Java व Oracle मंचों का प्रयोग कर रही सॉफ़्टवेयर व तकनीक कंपनियों को सॉफ़्टवेयर, टूल और ट्रेनिंग उपलब्ध करा कर देश में उद्यम और इनोवेटिव स्टार्टपों को बढ़ावा देंगे।

कंपनी ने एक बयान में कहा।

कैट्ज़ द्वारा घोषित तीसरा बड़ा प्लान था Oracle Academy द्वारा चलाये जा रहे ट्रेनिंग प्रोग्राम का विस्तृत होना। Oracle Academy ने छात्रों को कंप्यूटर सिखाने के लिये पहले ही भारत में 1,700 शिक्षण संस्थानों से साझा कर रखा है।

अब यह इस साझे को 1000 और संस्थानों तक और बढ़ायेंगे और साल में 500,000 छात्रों को ट्रेन करने के विचार में हैं। इसके अलावा सफ़रा कैट्ज़ ने डेटा सेंटरों को भारत में विस्तृत कर अपने क्लाउड ऑफ़रिंग को बहतर करने के Oracle के प्लान की घोषणा करी।

मेरा मानना है कि ‘डिजिटल इंडिया’ को सफल बनाने के लिये तकनीक महत्वपूर्ण है और दुनिया के हर देश के विस्तार के लिये हमारी तकनीक महत्वपूर्ण है।

कैट्ज़ ने कहा।

उन्होंने कहा कि वह Bharti Airtel जैसे ग्रुपों से साझा करेंगे, जिन्हें ‘ऐसे क्षेत्रों में अधिक अनुभव है’ अर्थात् डेटा सेंटर में निवेश करने में।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन