खबर स्टार्टअप्स

Peppertap मुंबई, चेन्नई समेत कई बड़े शहरों में हुआ बंद, 400 से अधिक वितरणकर्ताओं को किया निलंबित

भोजन डिलिवरी स्टार्टपों पर मुख्यतः बढ़ते दबाव के चलते, आज भारत के सबसे अधिक निवेशित हायपरलोकल डिलिवरी स्टार्टअप्स में से एक PepperTap ने मुंबई समेत भारत के छः बड़े शहरों में अपने ऑपरेशन बंद किये। ऑपरेशन बॉद करने के साथ ही, यह 400 डिलिवरी मैनों को भी निकालेंगे।

यह कदम, हायपरलोकल डिलिवरी स्टार्टपों द्वारा झेली जा रही दिक्कतों को उभारता है। पर उससे भी अधिक, यह इस तथ्य को उभारता है कि कैसे कंपनियां बड़ी बैकिंग के बाद भी डिलिवरी क्षेत्र में कुछ कर दिखाने में असफल हुई हैं, जिसके कारण कैश बर्न दर बहुत अधिक रही है।

इस साल जनवरी शुरवात में, Grofers ने भी नौ शहरों में ऑपरेशन बंद किये, जिनमें लुधियाना, भोपाल, कोच्ची, कोंबटूर व विशाखापट्टनम शामिल हैं।

ऑपरेशन बंद कर रही यह कंपनियां, अब कैपिटल बचाने के लिये न भारी छूटें दे रही हैं और न प्रचार पर अधिक खर्च कर रही है, मुख्यतः वित्तीय स्थिती सुधारने के लिये आ रहे निवेशको के दबाव के कारण।

PepperTap ने आगरा व मेरठ जैसे शहरों से अपने पांव खींच लिये थे, क्योंकि यहां उनका एक महीने का पायलट अधिक सफल नहीं रहा। कंपनी अब अहमदाबाद, चंडिगढ़, मुंबई, कोलकता, चेन्नई व जयपुर जैसे बड़े शहरों से भी निकासी लेगी।

पर कंपनी ने कहा कि वह दिल्ली, गुड़गांव, हैदराबाद, पुणे, नोएडा, बैंगलोर, गाज़ियाबाद और फ़रीदाबाद जैसे कुछ शहरों में अपने ऑपरेशन चालू रखेंगे, जहां अब भी इनके पास कुछ डॉमिंनेंस है।

PepperTap के सह संस्थापक व मुख्य अधिकारी नवनीत सिंह ने कहा:

“भले ही PepperTap ने खुद को एक लीडिंग हायपरलोकल किराना डिलिवरी स्टार्टप के रूप में स्थापित कर लिया है, हमने छोटे से मध्यकालीन निवेश आउटलुक को देखते हुए चौड़ाई की जगर गहराई पर ध्यान देने का फ़ैसला किया है। हम लंबे समय के लिये अपने पैर जमा रहे हैं। जिन शहरों में हम अपने ऑपरेशन जारी रख रहे हैं, वहां हम और कैटेगरी व सेवाएं उपलब्ध करा उपभोगताओं को बहतर अनुभव देंगे, जिससे हम अपने प्रतिद्वंदियों से अलग दिखें।”

2013 में नवनीत सिंह व मिलिंद शर्मा द्वारा स्थैपित इस कंपनी ने अपनी स्थापना से $51 मिलियन तक का निवेश अर्जित कर लिया है। जिन शहरों में यह ऑपरेशन बंद कर रहे हैं, वहां करीब 50 फ़ुल-समय कर्मचारी और 400 डिलिवरी मैन हैं, जो अब बेरोज़गार हो जायोंगे।

यह रोज़ाना 7,000-8,000 के ऑर्डर डिलिवर करने का दावा करते हैं। इनकी अभिभावक कंपनी Nuvo Logistics Pvt. Ltd., जो कि रिवर्स लॉजिस्टिक्स व्यापार में भी सक्रीय हैं, ने 2014-15 सत्र के लिये रु19.5 करोड़ के रेवेन्यू पर रु 85 लाख का मुनाफ़ा दर्ज किया था।

नयी व दबी हुई रणनीति में इस समय सभी स्टार्टप विस्तार करने कि बजाय अभी के अपने व्यापार को बहतर बनाने का प्रयास कर रहे हैं। इस समय PepperTap के सबसे बड़े प्रतिद्वंदी Grofers हैं, जिन्होंने भले ही हाल ही में निवेश में $120 मिलियन अर्जित किये हों, पर अभी PepperTap के जैसे ही दिक्कतों का सामना कर रहे हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन