खबर स्मार्टफोन्स

ब्लैकबेरी का पहला ऐंड्रॉइड फ़ोन द प्रिव, 30 जनवरी से भारतीय बाज़ारों में

BlackBerry ने गुरुवार को घोषणा करी कि उनका पहला फ़िज़िकल कीबोर्ड वाला फ़ोन, The Priv शनिवार, 30 जनवरी, 2016 को भारतीय बाज़ारों में आ जायेगा। नया डिवाइस उपभोगताओं को Amazon भारत व ऑफ़लाइन रीटेल दुकानों पर रु63 हज़ार में उपलब्ध हो जायेगा।

जैसे हमने पहले बताया था, इस स्मार्टफ़ोन के लिये अक्टूबर में ऑर्डर लिया जाना शुरू हो गया था और इसे US व कनाडा में उपभोगताओं को नवंबर में उपलब्ध करा दिया गया था। कंपनी ने हाल ही में The Priv के नीदरलैंड, इटली व स्पेन, और हाल ही में फ़्रांस में उपलब्ध होने की बात कही थी। यह कुछ समय की बात ही थी कि ओंटैरियो की यह कंपनी दुनिया के सबसे बड़े हैंडहेल्ड बाज़ार में अपना पहला Android स्मार्टफ़ोन उतारती।

BlackBerry ने कहा कि यह लांच, इनके पहले सुरक्षित Android स्मार्टफ़ोन के लिये अधिकतम उपभोगता जुटाने की रणनीति का हिस्सा हैं।

उन लोगों के लिये जो Priv के बारे में नहीं जानते, पेश है एक संक्षिप्त ब्रीफ़िंग।

BlackBerry का The Priv, उनके द्वारा बनाया गया पहला Android स्मार्टफ़ोन है। और भले ही यह Android पर आधारित है, जो एक ओपन सोर्स मंच है, BlackBerry ने हर संभव प्रयास किया है कि यह फ़ोन सुरक्षित रहे-एक ऐसा कार्य जिसमें कुछ ही इस कंपनी की बराबरी कर पाते हैं।

The Priv अभी Android 5.1.1 लॉलीपॉप पर चल रहा है, और इसमें 540ppi पिक्सल डेंसिटी के साथ 5.1इंच QHD (1440×2560 पिक्सल) का AMOLED डिस्प्ले है। इसमें 32GB की स्टोरेज व 3GB RAM उपलब्ध है। Priv 2TB की कपैसिटी के मेमोरी कार्ड भी सपोर्ट कर सकता है।

इसे Adreno 418 GPU के साथ Qualcomm Snapdragon 808 हेक्साकोर प्रोसेसर (1.8GHz डुअल-कोर कॉर्टेक्स A57 व 1.44GHz क्वाड-कोर कॉर्टेक्स-A53) पावर करता है। इसमें रियर कैमरा 18 मेगापिक्सल का है जो 4K की विडियो लेने में सक्षम है और 2 मेगापिक्सल सामने का, जो 720p की विडियो ले सकता है।

Priv और भी कई फ़ीचरों के साथ आता है, जो आप एक Android फ़ोन से चाहते हैं, जैसे LTE सपोर्ट, सभी दूसरे कनेक्टेविटी विकल्प, कई से सहायक सेंसर और एक बहतरीन फ़िज़िकल कीबोर्ड।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन