ई-कॉमर्स खबर

बड़े आधिकारिक प्रबंधन बदलाव के मध्य बिन्नी बंसल बने फ़्लिपकार्ट के नए सी.ई.ओ.

बड़े संरचनात्मक बदलावों के तहत भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों में से एक, Flipkart के सह संस्थापक बिन्नी बंसल को कंपनी का नया सी.ई.ओ. बना दिया गया है। उन्होंने यह पद कंपनी के दूसरे सह संस्थापक सचिन बंसल के रणनैतिक व संरक्षक की भूमिका निभाने के लिये यह पद छोड़ कर अधिकारिक चेयरमैन का पद ग्रहण करने के बाद लिया।

बिन्नी इससे पहले Flipkart के सी.ओ.ओ. थे। सी.ई.ओ. के रूप में, वह कंपनी ड्राइव करने व पूरी कंपनी के व व्यापार के प्रदर्शन के लिये ज़िम्मेदार होंगे। कॉमर्स, eKart व Myntra समेत कंपनी के सभी खंड व एच.आर., कानूनी, कम्युनिकेशन आदि जैसे कॉर्पोरेट फंक्शन बिन्नी को रिपोर्ट करेंगे।

अपनी नयी भूमिका के बारे में बताते हुए, बिन्नी ने कहा कि कंपनी 8 सालों में बहुत आगे आ गयी है और 60% एम-कॉमर्स बाज़ार शेयरों के साथ मज़बूत प्रतिनिधित्व में है, वो भी 50 मिलियन उपभोगताओं व स्मार्टफ़ोन व फ़ैशन में साफ़ बढ़ंत के साथ।

हम बहतरीन उपभोगता अनुभव बनाना, भारत के सभी हिस्सों में पहुंचने के लिये अपने सप्लाय चेन बढ़ाना, मोबाइल कॉमर्स में नये इनोवेशन करना और डिसरप्टिव तकनीक बनाते रहना जारी रखेंगे।

उन्होंने जोड़ा।

वहीं सचिन, कंपनी को रणनैतिक दिशा देने में व वरीष्ठ लीडरशिप को परामर्श देने में, निवेश अवसर ढूंढ़ने में व बाहरी फ़ोरमों में कंपनी का प्रतिनिधित्व करने में भागीदार रहेंगे। इसका उद्देश्य है बाहरी स्टेकहोल्डरों के लिये Flipkart की प्रतिनिधी की भूमिका को बैठाना।

यात्रा के इस दूसरे पड़ाव में, हम अपनी ज़िम्मेदारी को निभाएंगे और यह साबित कर देंगे कि भारत भी एक ऐसी इंटरनेट कंपनी बनाने की ताकत रखता है, जो विश्व के किसी भी विशालकाय कंपनी को पीछे छोड़ सके।

सचिन ने कहा।

यह बदलाव ऐसे महत्वपूर्ण समय पर आ रहे हैं, जब कंपनी को जल्द-से-जल्द लाभकारी बनने के लिये निवेशकों से दबाव सहना पड़ रहा है।

भले ही Flipkart ने अगले कुछ सालों में लाभ की बात करनी शुरू कर दी हो, यहां तक की रणनैतिक निवेश करे हों और अपने मंच पर नयी कैटेगरियां लायी हों, फिर भी, निवेशकों का ध्यान लाभ के अंकों पर ही दिखता है।

कुछ दिन पहले ही, Tiger Global के बाद Flipkart के सबसे बड़े निवेशक Accel Partners ने कंपनी में अपने $100 मिलियन के स्टेक Qatar Investment Authority को बेच दिये। उससे पहले, Helion Ventures ने पूरी व IDG Ventures ने Flipkart से आंशिक निकासी ले ली थी।

कंपनी के प्रतिनिधितव में इतना बड़ा बदलाव शायद कंपनी को लाभकारी बना दे, जिसमें ऑपरेशन बहतर करने के लिये रणनीति में नयापन लाना व Amazon, PayTM व Snapdeal जैसे बड़े प्रतिद्वंदियों से लड़ने के लिये निवेशकों का दिल जीतना आदि शामिल हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन