खबर स्टार्टअप्स

Snapdeal के ख़िलाफ़ प्रतिबंधित अवधि के दौरान मैग्गी बेचने पर FIR दाख़िल

मैगी वापस भले ही आ गई है , पर भारत की सबसे लोकप्रिय नूडल्स पर लगी रोक से सम्बंधित विवाद अभी तक बंद नहीं हुए हैं। और इस बार ये snapdeal के सामने आया है। इस ई- कॉमर्स वेब्सायट के संस्थापक व CEO के ख़िलाफ़ प्रतिबंध की अवधि के दौरान मैगी बेचने के आरोप के अंतर्गत FIR दायर की गयी है।

Snapdeal के CEO कुणाल बहल और कम्पनी के संस्थापक रोहित बंसल के ख़िलाफ़ राजस्थान सहित पाँच राज्यों में प्रतिबंध के दौरान पिछले साल 7 जून से 30 अक्टूबर के बीच ऑनलाइन नेस्ले मैगी बेचने पर मामला दर्ज किया गया है।

ये शिकायत जयपुर के एक वक़ील ललित शर्मा द्वारा कल दाख़िल की गयी थी। शिकायत के बाद पुलिस ने IPC की धारा 420( धोखाधड़ी), 120B(आपराधिक साज़िश) , 272( बिक्री के लिए इरादतन खाद्य व पेय में मिलावट), 273( हानिकारक खाद्य व पेय की बिक्री) और खाद्य सुरक्षा और मानक 2006 धारा 59 और 63 के तहत मामला दर्ज किया।

पिछले साल जून में भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण ने मैगी में पारे की उच्च मात्रा का दावा करते हुए मैगी की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया था। हालाँकि बम्बई हाई कोर्ट ने मैगी के नौ वेरिएनट्स पर देशव्यापी प्रतिबंध को डरलिंग्स करते हुए कहा था की उत्पाद पर प्रतिबंध लगाते समय राष्ट्रीय खाद्य नियामक ने मनमाने तरीक़े से करत किया है व प्राकृतिक न्याय के सिद्धान्तों का पालन नहीं किया।

बम्बई उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार नेस्ले इंडिया ने सरकारी प्रयोगशालाओं से हरी झंडी मिलने के बाद अपनी लोकप्रिय मैगी की बिक्री शुरू कर दी है।

एक विशेष रोलाउट में नेस्ले ने मैगी नूडल्स को फिर से शुरू करने के अलावा ऑनलाइन पोर्टल snapdeal के साथ मैगी नूडल्स की होम डिलीवरी करने की भी साझेदारी की है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन