खबर स्टार्टअप्स

FoodPanda ने अपनी भारत की कार्यक्षमता 15 प्रतिशत घटायी, स्वचालित होने में अधिकता आना बताया कारण

इस साल भारतीय भोजन तकनीक सेक्टर में अनगिनत छंटनी व कम्पनीयां बंद होने के मध्य, FoodPanda ने अपनी 15 प्रतिशत कार्यक्षमता कम करी और कहा कि वह अब भी सही चल रहे हैं।

NDTV को भेजे गये ई-मेल बयान में FoodPanda ने कहा कि वह 98% तक भोजन ऑर्डर करने के लिये स्वचलित होने में सफल रहे हैं, जिसका सीधा असर कंपनी के हस्तचलित कार्यक्षमता पर पड़ा है। ऐसे में, कुछ विभागों की कार्यक्षमता में कटौती करी जायेगी और इसकी चपेट में आये कर्मचारियों की उचित क्षतिपूर्ती करी जायेगी और उन्हें दूसरी नौकरी ढूंढने में भी सहायता दी जायेगी।

FoodPanda के सी.ई.ओ. सौरभ कोचर ने कहा:

हमें विश्वास है कि हमारी टीम हमें ऑपरेशन आसान बनाने में और बढ़ंत के अगले चरण से गुज़रने में पूरी तरह सहारा देगी।

2015 भोजन डिलिवरी स्टार्टपों के लिये बहुत महत्वपूर्ण रहा है। यहां Swiggy, FoodPanda, Zomato, TinyOwl जैसों कि वजह से व्यापार में बढ़ंत आई है। यहां ही, कई कंपनिया बंद भी हुईं (जनमें सबसे महत्वपूर्ण Dazo व Eatlo थीं) और कइयों में अनेक कर्मचारियों को निरस्त किया गया। फिर भी, अगर FoodPanda के कर्मचारियों को निरस्त करने के कारण सही हैं, तो यह उन कम उदाहरणों में से होगा जब ऐसा पैसे बचाने के लिये नहीं, बल्की तकनीक की बहतरी के कारण होगा।

जहां इस क्षेत्र में अनेक खिलाड़ी आये थे, उतने ही चले भी गये, क्योंकि वह लॉजिस्टिक दिक्कतों, छूट की लड़ीइयों व सेवा संबंधित दिक्कतों से जूझ नहीं पाये। इन सभी चीज़ों से बचने के लिये कंपनियों को अपनी वर्कफ़ोर्स कम करनी पड़ी, मतलब कइयों को अपनी नौकरियों से हाथ धोने पड़े।

TinyOwl ने बड़ी ख़बर बनायी थी जब उनके पूर्व कर्मचारियों ने कंपनी के ग़लत तरीके से लेऑफ़ व बंद करने को हैंडल करने की बात कहने के लिये सोशल मीडिया का सहारा लिया था। Zomato ने कंपनी रीशफ़ल करने का बहाना देकर कई कर्मचारियों को निरस्त किया। Grabhouse ने अपने करीब 170 कुछ कर्मचारियों को निकाला।

कंपनी को स्वचलित बनाना आवश्यक्ता से अधिक कर्मचारियों को रखने से बचने का FoodPanda का एक तरीका है। यह आगे कंपनी के कैश बर्न को कम कर उनको बुरे समय में बचने में सहायता देगा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन