खबर डिजिटल इंडिया स्टार्टअप्स

‘स्टार्टप भारत’ का ब्लूप्रिंट 16 जनवरी को होगा सार्वजनिक, प्रधानमंत्री मोदी की घोषणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुरू से ही भारत में उद्यमी संस्कृती को बढ़ावा देने के प्रयास में हैं। वह भारत को स्टार्टप गंतव्य बनाना चाहते हैं- और ये अभी और भी स्पष्ट हो गया है।

अपने मासिक रोडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में एक घोषणा में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 16 जनवरी को सरकार देश के स्टार्टपों के लिये बन रहे ब्लूप्रिंट को सार्वजनिक कर देगी।

मोदी ने इस साल 15 अगस्त को लाल किले से भारत के स्टार्टप गंतव्य बनने के विषय में चर्चा करी थी। उन्होंने कहा कि उद्यमी न केवल देश को तकनीकी व वित्तीय रूप से आगे बढ़ने में सहायता देंगे, बल्की नौकरियों के बनाने में भी अति आवश्यक होंगे।

15 अगस्त को लाल किले से मैंने भारत के स्टार्टप गंतव्य बनने की बात कही थी… जिसके बाद यह बात उठी थी कि क्या सच में भारत दुनिया कि स्टार्टप राजधानी बनने योग्य है या नहीं। 16 जनवरी को हम स्टार्टपों के लिये कार्य प्लान के साथ आ रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा।

स्टार्टप इंडिया, स्टैंडप इंडिया के ज़रिये कॉलेजों के बहतरीन IT बुद्धिमान लाइव कनेक्टिविटी से जुड़ेंगे… देश के युवाओं में भारत की बढ़ंत को आगे ले जाने की क्षमता है।

परिकल्पना है कि देश के सभी बैंकों की 1.25 लाख ब्रांचें कम से कम एक दलित या जनजातीय उद्यमी व एक महिला उद्यमी को बढ़ावा दें।

प्रधानमंत्री को यह संबोधन 20 मिनट ही चला, जिसमें उन्होंने देश वासियों को त्योहार के मौसम की बधाई दी और बताया कि सरकार भारतीय आवश्यक्ताओं के लिये विशेष तौर पर एक स्टार्टप इंडिया प्रोग्राम बनायेगी।

16 जनवरी को सरकार स्टार्टप इंडिया, स्टैंडप इंडिया का पूरा कार्य प्लान सार्वजनिक कर देगी। यह प्रोग्राम देश के IITओं, IIMओं व NITयों से जुड़ा होगा। जहां भी युवा हैं, वो लाइव कनेक्टिविटी से जुड़ें रहेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा।

प्रोग्राम मुख्य रूप से स्टार्टपों को बैंक से वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने पर केंद्रित होगा, जिससे देश में उद्यमों व कार्य उपलब्धता में बढ़ंत आये। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह चाहते हैं कि स्टार्टप ग्रामीण भारत को भी वैसे ही अपनायें जैसे वे शहरी भारत को अपना रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने सरकार के विकलांगों की सहायता के लिये प्रयास करने की बात भी कही।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन