खबर डिजिटल इंडिया स्टार्टअप्स

डेवलपर फ़ोकस्ड डीप लर्निंग उपाय बनाने के लिये Arya.AI को पूर्व-ए निवेश सत्र में मिला $750 हज़ार का निवेश

कृत्रिम बुद्धी स्टार्टप Arya.AI, जो कि डेवलपरों को बुद्धिमान AI सिस्टमों पर चलाने के लिये डीप लर्निंग ऐल्गॉरिदम उपलब्ध कराती है, को ए पूर्व निवेश सत्र में YourNest व VentureNursey से $750 हज़ार का निवेश मिले।

Arya.AI, जो की देश मैं अपनी तरह का पहला क्रतिम बुद्धि स्टार्टअप है, इस नये निवेश का प्रयोग प्रोडक्ट के डेवलपमेंट में व ‘AI-ईकोसिस्टम को बढ़ावा देने में” प्रयोग करेंगे। यह तीसरी बार है कि VentureNursey ने कहीं निवेश किया है।

जहां अधिकतम कंपनिया अपनी ऐप्लिकेशनों में AI का प्रयोग करना चाहती हैं, वहीं ऐसा कर पाने के चरण कठिन हैं, “बुद्धिमानी” बनाने से लेकर मुश्किल ‘Dev Ops’ संभालने तक। अच्छा इंटेलिजेंस सिस्टम बनाने के लिये लगने वाला अधिक समय व रीसोर्स भरे एफ़र्ट बहुत बड़ी चुनौती हैं।

दो IIT-B शोधकों विनय कुमार संकरापु व दीक्षिथ मार्ला द्वारा स्थापित Arya.AI डेवलपरों की इसी परेशानी को दूर करती है। एक मंच के तौर पर Arya.AI डेवलपरों को ‘भाषा’, ‘विज़न’, ‘स्पीच’ व ‘रीज़निंग’ मॉड्यूल उपलब्ध कराती है। वह इन्हीं मॉड्यूलों के आधार पर कंप्यूटर के समझने के लिये सही जानकारियां डाल कर AI कंप्यूटिंग सिस्टम बना सकते हैं।

सह संस्थापक व सी.ई.ओ. कुमार ने कहा:

AI का प्रयोग कर डेवलपर ऐसी ऐपें बना सकते हैं जो कि सबसे मुश्किल दिक्कतों का भी हल निकाल दें। परंतु ऐसे विश्वस्नीय सिस्टम को बनाने में आने वाली दिक्कतें ही उनके लिये सबसे बड़ी समस्या है

Arya.AI डीप लर्निंग ऐल्गॉरिदम के प्रयोग से एक आम AI सिस्टम बनाने में सहायता करता है, जिसपर उपभोगता की कम से कम इनपुट पर एडैप्ट होकर कई केस सीख सके। अनुभवों व सीखने के साथ स्टिस्टम बहतर होता जाता है।

Arya.AI डेवलपरों व संस्थाओं की इस मुख्य परेशानी का समाधान निकाल कर उन तक बहतरीन AI सिस्टम बनाने के लिये कई मुश्किल तकनीकों को आसान कर के देता है।

कुमार ने आगे कहा।

VentureNursey के निवेशक व बोर्ड नॉमिनी समीर शाह, जिन्होंने विनय व उनकी टीम को दो साल से डीप लर्निंग मंच बनाते देखा है, ने कहा:

हमें उम्मीद है कि Arya कृत्रिम जनरल बुद्धी (AGI) साथी बन कर मिलियनों अंतिम उपभोगताओं को इंपैक्ट करेगा, मुख्यतः विज्ञान व मेडिकल क्षेत्रों में निर्णय लेने के लिये। हमें एक ऐसी टीम को बाक करने में बहुत आनंद आ रहा है, जो कि एक वैश्विक खिलाड़ी होने का मद्दा रखती है।

Arya.AI के मंच द्वारा डेवलप करी गयी मॉड्यूलों को कई केसों में प्रयोग किया जा सकता है: रेडियोलॉजिस्टों के लिये AI असिस्टेंट बनाने से लेकर उपभोगता हैंडलिग अनुभव ऑटोमेट करने के लिये बॉट बनाने तक।

Arya.AI यात्रा, शोध, ई-कॉमर्स, कस्टमर केयर, दवा व बैंकिंग वर्टिकलों के डेवलपरों के साथ काम कर रही है और आगे ऑटोमोबाइल, मिलिटरी व डिफ़ेंस के डेवलपरों के साथ काम करेगी।

आने वाले समय में हम और ऐसी बुद्धिमान मशीनों को देखने की उम्मीद कर रहे हैं, दो हमें रोज़मर्रा के कामों से मुक्त कर दें। यह AI सिस्टम हमारे प्रोफ़ेश्नलों व व्यक्तिगत रूप से कार्य करने के तरीकों को बदल सकते हैं।

कुमार ने कहा।

डेवलपरों के साथ हाथ मिला कर Arya.AI विश्व स्तरीय AI सिस्टम बनाना चाहती है, जो कि मनुष्य की कार्यक्षमता व गुणवत्ता बढ़ा दे।

हाल ही में Arya.AI को फ़्रांस की इनोवेशन एजंसी Paris&Co ने ऐसी 21 कंपनियों की सूचि मे शामिल किया जो एकदम अलग इनोवेशन करती हों। यह भी, कंपनी के Microsoft US कैंपस में हुए ‘सिलिकॉन वैली फ़ोरम’ की अगली पीढ़ी की चार बहतरीन इनोवेशन कंपनीयों में आने की सूचि के छः महीने बाद।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन