ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Accel Partners ने कथित तौर पर flipkart में 100 मिल्यन डॉलर मूल्य की हिस्सेदारी बेची

भारत में ई-कॉमर्स की बढ़ती लोकप्रियता के बावजूद मुनाफ़े का मुद्दा कम्पनियों के लिए भारी चिंता का विषय बना हुआ है, जो निवेशकों का पैसा भारी छूटों के माध्यम से उड़ा रहे हैं। और शुरुआती निवेशक IPO के वादों के बावजूद इस सेगमेंट के बड़े ब्रांड्ज़ में से पैसा निकालने की सोच रहे हैं।

फ़िलहाल में पैसा निकालने वालों में Accel partners, Tiger Global के बाद Flipkart का दूसरा सबसे बड़ा निवेशक शामिल है। रिपोर्ट के अनुसार मध्य/ देर के चरण के निवेशको ने अपने 100 मिल्यन डॉलर की आंशिक हिस्सेदारी को Qatar investment Authority को बेच दिया है। कम्पनी को ये सौदा अपने मौजूदा मूल्याँकन 15 बिल्यन डॉलर के आस पास का पड़ा और अज्ञात सूत्रों के अनुसार ये सौदा नवंबर में पूरा हुआ।

Qatar investment authority पहले से ही Flipkart में निवेशक है और दिसंबर 2014 में ही Flipkart में 700 मिल्यन डॉलर का निवेश किया था। ये Accel partners का भारतीय ई-कॉमर्स के विशालकाय सदस्य में अपनी हिस्सेदारी बेचने का दूसरा उदाहरण है। पिछले ही साल इसने अपने 800 मिल्यन डॉलर्ज़ से ज़्यादा की हिस्सेदारी अज्ञात ख़रीदारों को बेची थी।

इसी साल शुरुआत में दूसरे निवेशको Helion investors और IDG Ventures ने भी Flipkart से पूरी तरह व आंशिक रूप से भी अपने क़दम वापस ले लिए थे। उस समय कम्पनी का मूल्याँकन 12.5 मिल्यन डॉलर था।

ये नोट करने लायक है की उच्च GMV (4 बिल्यन डॉलर ) और आकाश छूते मूल्याँकन जिन्हें विश्लेशकों के द्वारा अक्सर बढ़े हुए और अनुचित का नाम दिया जाता है, मुद्रा प्रवाह और लाभप्रदता Flipkart और दूसरे खिलाड़ियों के लिये प्रमुख चिंता का विषय है।

बहुत सारे निवेशक अब कथित रूप से उन कंपनियों में निवेश की बजाय जो की बाज़ार पर लंका करने के लिए निवेशकों के धन पर भरोसा करती हैं , लाभ कमाने वाले निवेश करने में ज़्यादा रुचि दिखा रहे हैं।

Flipkart ने अभी तक इस रिपोर्ट पर कोई अधिकारिक टिप्पणी नहीं की है। हालाँकि इसने आने वाले दो तीन सालों में मिलने वाले लाभ पर बात करनी शुरू कर दी है।

इसने अभी तक लजिस्टिक नेट्वर्क बनाने के साथ अपने तकनीकी मंच का समर्थन करने के लिए सैकड़ों रड़्नीतिक निवेश किए हैं। इसके अलावा इसने अपने मंच पर ज़्यादा लाभ वाली श्रेणियों जैसे की फ़र्निचर, घर और ट्रैवल बुकिंग भी शुरू किया

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन