खबर स्टार्टअप्स

रतन टाटा ने ऑनलाइन गृह सेवा बाज़ार UrbanClap में किया निवेश

दूसरों से बहतर बैक किये गृह सेवा बाज़ार UrbanClap ने पूर्व Tata Sons के चेयरमैन रतन टाटा से गुप्त रक़म का निवेश प्राप्त करने की घोषणा करी। टाटा ने यह निवेश निजी रूप से किया है।

गुड़गांव के इस स्टार्टप को वरुण खैतान, राघव चंद्रा व अभिराज बहल ने 2014 में स्थापित किया था। यह ख़बर कंपनी के बी सत्र में $100 मिलियन के वैल्युएशन पर Bessemer Venture Partners, SAIF Partners व Accel Ventures से $25 मिलियन का निवेश प्राप्त करने के कुछ समय बाद ही आयी है।

हमें कंपनी के सूत्रों से पता चला है, कि कंपनी आने वाले समय में कंपनी $100 मिलियन का निवेश सत्र चलाने के विचार में भी है।

रतन टाटा के निवेश के बारे में बताते हुए कंपनी के सह संस्थापक अभिराज बहल ने कहा:

हम श्री रतन एन टाटा के UrbanClap से जुड़ने से बहुत उत्साहित हैं। श्री टाटा दशकों से भारतीय एंटरप्रइजों का भरोसा बांधने में बहुत अनुभवी हो गये हैं और यह हमारे लिये भविष्य में बहुत सहायक होगा।

Snapdeal के कुणाल बहल व रोहित बंसल द्वारा निवेशित यह कंपनी, बिजली बनाने वालों और सफ़ाई वालों जैसी नीले कॉलर वाली सेवाएं व फ़ोटोग्राफ़र व इंटीरियर डिज़ाइनर जैसी सफ़ेद कॉलर सेवाएं उपलब्ध कराती है।

दिल्ली-NCR, मुंबई, बैंगलोर, चेन्नई व पुणे में स्थित यह कंपनी अगले वर्ष तक 25 शहरों में और विस्तार करने की सोच रही है, साथ ही, यह और कैटेगरियां भी लायेंगे। अभी यह 25,000 सेवा प्रोफ़ेश्नलों के माध्यम से 80 के करीब सेवाएं उपलब्ध करा रहे हैं।

रतन टाटा निवेश करने में उत्साहित लग रहे हैं। पिछले कुछ महीनों से वह बहुत से निवेश कर रहे हैं। उन्होंने HolaChef, Infinite Analytics, Zivame, Abra आदि कंपनियों में निवेश किये हैं।

टाटा ने Ola व Snapdeal जैसी तेज़ गती से बढ़ रही कंपनियों में भी निवेश किये हैं। साथ ही, उन्होंने सबसे लोकप्रीय चीनी फ़ोन विक्रेताओं में से एक, Xiaomi में भी निवेश किया।

इस क्षेत्र में UrbanClap LocalOye, Zimmber, HouseJoy आदि से प्रतिद्वंद कर रही है, जिन्होंने उच्च स्थान प्राप्त करने के लिये कई निवेश जुटा लिये हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन