खबर स्टार्टअप्स

Urbanclap ने 24 मिलियन डॉलर का प्राप्त किया निवेश, कंपनी का मूल्यांकन पहुँचा १०० मिलियन डॉलर्स के पार

Urbanclap, जो खुद को भारत को सबसे बड़ा मोबाइल आधारित सेवाए प्रदान करने वाला प्लॅटफॉर्म होने का दावा करता हैं, ने अपनी निवेश अर्जित करने की नवीनतम शृंखला में 24 मिलियन डॉलर्स अर्जित किए हैं। इस शृंखला का नेतरत्व बेसेमर वेंचर पार्ट्नर्स ने किया जबकि अन्य मौजूदा भागीदार निवेशकों में आक्सेल पार्ट्नर्स और सैफ पार्ट्नर्स थे।

इस प्राप्त निवेश के साथ कंपनी का कुल मूल्य अब १०० मिलियन डॉलर से भी ज़्यादा हो चुका है। इससे पहले इस गुड़गाओं बेस्ड स्टार्टाप ने निवेश अर्जित करने की शृंखला A में १० मिलियन डॉलर उठाए थे और उससे भी पहले अपनी सीड फंडिंग के दौरान १.६ मिलियन डॉलर अर्जित किए थे।

Urbanclap अभिराज बहल, वरुण खैतान और राघव चंद्रा द्वारा २०१४ में भारत में उपस्थित असंगठित सेवाओं को प्रौद्योगिकी और स्मार्ट टूल्स का प्रयोग कर के संगठित रूप प्रदान करने के लक्ष्य के साथ स्थापित की गयी थी।

ये कंपनी उपयोगकर्ताओं को प्लमबर, फोटोग्राफर्स, योग शिक्षक, इंटीरियर डिज़ाइनर जैसी सेवाओं के पेशेवरों के बारे में जानकारी उपलब्ध करने का विकल्प प्रदान करती है. ये अपने प्लॅटफॉर्म को शहरी जीवन के लिए आवश्यक सारी ज़रूरतों के लिए विकल्प प्रदान करने वाला बनाना चाहते हैं।

अपनी आवश्यकताओं के बारे में कुछ सवालों के जवाब देने के बाद कंपनी आपको एक घंटे के भीतर उपयुक्त पेशेवरों की एक सूची उपलब्ध कराती है। इस लिस्ट के द्वारा आप इन पेशेवारों की प्रोफाइल, उनके अनुभव व रेट्स आदि की तुलना कर सकते हैं. और अगर आपको उनमें से कोई पसंद आता है और आप उनकी सेवा लेना चाहते हैं तो तो आप उनसे सीधे बात कर सकते हैं।

फिलहाल कंपनी एक दिन में लगभग ५००० ग्राहकों के अनुरोध को २०००० से ज़्यादा सक्रिय विक्रेताओं के नेटवर्क के आधार पर पूरा कर रही है. अभी ये दिल्ली व एन सी आर , बेगलुरु, मुंबई, चेन्नई व पुणे में सक्रिय है. Urbanclap ने अपनी मोबाइल एप्प लॉंच करने के सिर्फ़ ६ महीने के भीतर १० मिलियन डॉलर के लेनदेन को करके एक मील का पत्थर पार किया है. हालाँकि ये अभी भी अपनी सेवाओं को एक साल में २५ और शहरों में और १०० और श्रेणियों में विस्तार करने के लिए प्रयासरत है।

निवेश के बारे में टिप्पणी करते हुए विशाल गुप्ता, बेसेमर वेंचर पार्टनर्स के प्रबंध निदेशक ने कहा,

तेज़ी से ग्राहक बनाने और ग्राहकों और विक्रेताओं को खुश रखने के लिए प्राद्योगिकी प्रक्रियाओं और आपूर्ति पक्ष का सुदृड होना ज़रूरी है और इसे सुदृड करने के लिए काफ़ी सोच और मेहनत की ज़रूरत होती है। इतनी छोटी अवधि में Urbanclap ने अपनी मोबाइल अप्लिकेशन के द्वारा आक्रामक रूप से जो बाज़ार बनाया है व पूंजी का कुशल तरीके से उपयोग किया है उससे हम बहुत प्रभावित हैं।

भारत में गृह सेवाओं का बाज़ार हालाँकि अभी नवजात अवस्था में है फिर भी काफ़ी सारे स्टारटूप्स की भीड़ मौजूद है. इन स्टारटूप्स को अब इस बाज़ार में उपस्तित समस्याएँ धीरे धीरे दिखना शुरू हो गयी हैं जबकि इन में से काफ़ी स्टारटूप्स के पास निवेश का विकल्प मौजूद है।

निवेशकों को भी अब ऐसी स्तितिोँके लिए जागरूक रहना होगा जैसा अमेरिका में स्थित Homejoy के साथ हुआ और जिसके कारण अंततः उसे अपनी दुकान बंद करनी पड़ी. बढ़ी हुई प्रतियोगिता के कारण Urbanclap को अपना विस्तार करने के लिएआवश्यक पिछली शृंखला में अर्जित १० मिलियन डॉलर का निवेश प्राप्त करने के दौरान Zimmber ने IDG वेंचर्स और दूसरे निवेशकों से २ मिलियन डॉलर का निवेश उठाया था।

जब इस क्षेत्र के ज़्यादातर स्टारटूप्स अपनी सेवाओं, संचालन और टीम का विस्तार करने के लिए धन जुटा रहे हैं वहीं हाल में ही Localoye ने अपने ३० प्रतिशत कर्मचारी संख्या में कटौती की है। ये कटौती कंपनी द्वारा ग्राहकों की सेवा के लिए स्वचालित प्लॅटफॉर्म बनाने के क्रम में की गयी है जिसमें बहुत कम मैनुअल हस्तकचेप की आवश्यकता होगी।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन