खबर डिजिटल इंडिया

माइक्रोसॉफ़्ट ने दूर-दराज क्षेत्रों में कनेक्टिविटी बहतर करने वाली संस्थाओं के लिए करी $75 हज़ार के फ़ंड की घोषणा

Facebook व Google के बाद अब Microsoft भी ‘सभी के लिये इंटरनेट’ के प्रस्ताव से जुड़ रही है, और इसी के तहत इन्होंने लचर इंटरनेट कनेक्टिविटी बाज़ारों में कम दरों पर इंटरनेट उपलब्ध कराने के लिये प्रयास कर रही संस्थाओं को $75,000 के फ़ंड देने की घोषणा करी है।

Microsoft के मुताबिक दुनिया की 57% आबादी ऑफ़लाइन है। यह दूर-दराज क्षेत्रों को ऑनलाइन लाने के लिये कार्य कर रही सक्षम संस्थाओं को निवेश देकर इस प्रतिशत को कम करना चाहते हैं।

यह फ़ंड Microsoft के Affordable Access Initiative का हिस्सा है, जिसका प्रयोग यह आखिरी-मील ऐक्सेस तकनीकों, क्लाउड सेवाओं व ऐप्लिकेशनों व व्यापार मॉडलों में निवेश करने के लिये करते हैं।

Microsoft की अधिकारिक वाइस प्रेज़िडेंट (व्यापार डेवलपमेंट) पेगी जॉन्सन ने कहा:

आज दुनिया भर में करीब चार बिलियन लोग बिना इंटरनेट की पहुंच के हैं। इस दूरी को आज कई देशों में आसानी से व कम दरों पर उपलब्ध तकनीकों का प्रयोग कर कम किया जा सकता है।

इस निवेश का हिस्सा प्राप्त कर पाने के लिये आवेदकों को व्यवसायिक संस्था बनानी पड़ेगी, जिसमें दो या अधिक पूरे समय कार्य करने वाले कर्मचारी, एक कार्य करने वाले उपाय का प्रोटोटाइप और संभव हो तो भुगतान करने वाले उपभोगता आवश्यक हैं। साथ ही, ऐसे प्रोडक्ट व व्यापार मॉडल क्लाउड सेवाओं व ऐप्लिकेशनों को इंटरनेट कनेक्टिविटी के नये, सस्ते तरीकों से व नये भुगतान तरीकों से जोड़ा जा सकता है, जिससे यह उपभोगताओं व छोटे व्यापार बाज़ारों में सफल हो सकें।

यह पहली बार नहीं है कि Microsoft दूर दराज क्षेत्रों में इंटरनेट कनेक्टिविटी लाने का प्रयास कर रही है। इससे पहले उन्होंने भारत में TV स्पेक्ट्रम में स्थित बैंडविथ अंतरों से लोगों को वैश्विक नेट्वर्क से कनेक्ट करने का ज़रिया निकाला था। पर, जैसा अधिकतम ऐसे कदमों के साथ होता है, कंपनी को टेलेकॉम व केबल ऑपरेटरों से यह सुन के निंदा मिली कि अगर यह ऑपरेटर बैंडविथों का भुगतान कर रहे हैं, तो Microsoft इनका प्रयोग मुफ़्त में कैसे कर सकता है।

Facebook ने भी अपने Free Basics प्रोग्राम के तहत दूर दराज क्षेत्रों के एक सूत्र से जाड़ने व सभी को इंटरनेट की कनेक्टिविटी उपलब्ध कराने का प्रयास किया, जिसमें भी भारी मतभेद आये।

जो संस्थाएं इस फ़ंड को पाने के लिये आवेदन कर रही हैं, Microsoft चाहती है कि उनके आइडिया व क्रियेटिविटी उनके जैसी ही हो। साथ ही, इस आइडिया को इम्प्लिमेंट करने के लिये Microsoft संस्थाओं को सही मार्गदर्शन और तकनीक उपलब्ध करायगी।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन