खबर स्टार्टअप्स

फेसबुक ने अपनी इंस्टेंट आर्टिकल्स सेवा को किया भारत में लांच

एक दिन पहले ही फेसबुक ने भारत में इंस्टेंट आर्टिकल्स शुरू किये हैं। इस सेवा को उपयोगकर्ताओं तक पहुँचाने के लिए कंपनी ने इंडिया टुडे, द क्विंट, आज तक , हिन्दुस्तानटाइम्स और इंडियन एक्सप्रेस जैसे प्रकाशनों के साथ साझीदारी की है। अब इन प्रकाशन साझीदारों के माध्यम से उपयोगकर्ता स्पष्ट और प्रासंगिक लेख खोज और पढ़ सकेंगे।

ये प्रकाशन साझीदार फेसबुक के  इंस्टेंट आर्टिकल्स के लिए सम्बंधित और प्रासंगिक लेख उपलब्ध कराएँगे जो फेसबुक द्वारा एप्प में प्रकाशित हो जाएगी. लेख प्रकाशितहोने में काफी काम समय लगेगा क्यूंकि ये एक तरह से स्वचालित प्रकाशन होगा।

इससे पहले ये सुविधा सिर्फ अमेरिका और पश्चिमी युरोप में IOS पर ही उपलब्ध थी .फ़िलहाल कंपनी भारतीय उपयोगकर्ताओं की पसंद को आधार बना कर, की किस तरहके लेख भारतीय उपयोगकर्ताओं को पसंद आएंगे इसका परीक्षण कर रही है. परिक्षण के बाद ये और अधिक प्रकाशकों को अपने साथ जोड़ेगी।

फेसबुक के उत्पाद प्रबंधक Andy Mitchel, और Michael Reckhow, ने कहा की उनकी योजना प्रकाशकों को अपनी खबर प्रकाशित करने के लिए एक प्लेटफार्मउपलब्ध कराने की है . उन्होंने ये भी दावा किया की ये प्रकाशकों को एक बहुत ही अच्छा अनुभव  और  सहायता प्रदान करने वाला मंच है।

उन्होंने ये भी कहा की इसके द्वारा फेसबुक के मोबाइल एप्प पर ये एक पेज को लोड करने के लिए औसतन ८ सेकण्ड्स लगता है . इंस्टेंट आर्टिकल्स  उपयोगकर्ताओं केमोबाइल पर पढ़ने के अनुभव को 10 गुना ज्यादा तेज़ करने के लिए  टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है जिससे लेख तुरंत उपलब्ध हो जाते हैं।

पढ़ने के एक त्वरित अनुभव के साथ साथ इंस्टेंट आर्टिकल्स प्रकाशकों को कई सारे नए फीचर्स के साथ नए तरीके से अपनी कहानी प्रस्तुत करने का विकल्प देता है . लेखसम्बंधित तस्वीरों को आप ज़ूम करके और बहुत अच्छी क्वालिटी में देख सकते हैं . इंस्टेंट आर्टिकल्स लेख पढ़ते पढ़ते बीच में खुद से चलने वाले वीडियो,ज्ञानवर्धकमानचित्र,ऑडियो कॅप्शन्स और यहाँ तक लेख के पसंदीदा हिस्सों पर कमेंट्स और लाइक करने का विकल्प भी भी प्रदान करता है।

उपयोगकर्ताओं के अनुभव को अच्छा बनाने के साथ ही फेसबुक ने प्रकाशकों को ध्यान मैं रखते हुए भी कई नए फीचर्स डाले  हैं .प्रकाशक अपने लेखों के साथ विज्ञापनप्रकाशित करके पैसे भी कमा सकते हैं, इसके अलावा वो फेसबुक के उपयोगकर्ताओं के नेटवर्क का इस्तेमाल भी बिक्री के लिए कर सकते हैं। प्रकाशकों के पास comScore, और अन्य विश्लेषण उपकरणों के माध्यम से डाटा और ट्रैफिक पर भी नज़र रखने का विकल्प भी होगा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन