खबर स्टार्टअप्स

ऑटो क्लासिफ़ाइड बाज़ार में दौड़ जारी, कारट्रेड ने प्रतिद्वंदी कारवाले को $90 मिलियन में खरीदा

ऐसा लगता है कि उपयोग करी गयी कारों के क्लासिफाइड बाज़ार में दो बड़े खिलाड़ियों का उदय और भिड़ंत होना निश्चित है। जहां CarDekho बड़ी-बड़ी ऐक्विज़िशनें करने में व्यस्त था, CarTrade भी लय में आकर अब अपने छोटे-छोटे प्रतिद्वंदियों को खरीदने लगा है, जिसके अंतरगत उसने $90 मिलियन में CarWale को ख़रीद लिया है।

CarWale अभी नयी गाड़ियां खरीदने के स्थान पर ज़्यादा उपस्थित है, जिसमे जर्मनी के Axel Springer ने निवेश कर रखा है। पांच साल पहले Axel ने कंपनी में 91% शेयर खरीद लिये थे, और अब उन्हें बड़े रिटर्न मिलने की संभावना है।

यह डील ऑल-कैश वाली होगी। CarTrade के संस्थापक विनय संघी ने कहा कि दोनो ब्रांड आगे भी स्वतंत्रता से काम करते रहेंगे। उन्होंने आगे कहा:

दोनो ही मंच स्वतंत्रता से काम करते रहेंगे। CarWale नयी कारों के लिये मंच होगा, वहीं CarTrade उपयोग की गया कारों के लिये।

इस ऐक्विज़िशन के साथ CarWale का कम जाना जाने वाला भाग BileWale भी कंपनी से जुड़ जाएगा। दोनों कंपनियों ने न तो डीटेलों पर बयान दिया है और न ही किसी कंलोज़िंग तारीख की घोषणा करी है।

भारत के वाहन कंलासिफ़ाईड सेगमेंट की बात करें तो हम सबको पता है कि यह स्पेस कितना बिखरा हुआ हो गया है। बाज़ार मे अचानक ही छोटे-बड़े खिलाड़ियों की जैसे बाढ़ सी आ गयी। यह ऐक्विज़िशन और CarDekho का Zigwheels का ऐक्विज़िशन यह दर्शाता है कि यह स्थान अब परिपक्व हो रहा है, और उपभोगताओं को अब एक समान अनुभव देना चाहता है।

दोनों कंपनियों को मिलाकर अब इनके पास 9000 कार डीलर और 2.25 लाख उपयोग की गयी कारें उपलब्ध होंगी। डील के बाद CarWale के दुबे सह संस्थापक और डायरेक्टर के तौर पर मिश्रित कंपनी से जुड़ जाएंगे, और उनके पास अभिभावक कंपनी के बड़े शेयर भी उपलब्ध रहेंगे। अपनी ताकत मिलाने के बाद, CarTrade को अगले चार सालों में $400 मिलियन का रेवेन्यू कमाने की उम्मीद है।

इस क्षेत्र में दूसरे खिलाड़ी Quikr व Snapdeal हैं, जो कि अपने अपने ब्रांडों Quikr Cars व Snapdeal Motors को बढ़ावा देने में लगी हुई हैं। भले ही यह दोनों आंकिक तौर पर CarDekho या CarTrade के ज़रा भी करीब नहीं हैं, पर इनकी बड़ी बैकिंग देखकर भविष्य के बारे में नहीं कहा जा सकता।

Snapdeal ने हाल ही में अपने कार विभाग में $200 मिलियन का निवेश करने की बात कही थी, और आने वाले समय में यह सिर्फ़ अपने कार विभाग से $2 बिलियन का GMV कमाना चाहते हैं।

Snapdeal Motors के नाम वाले इस भाग को Snapdeal के वाहन के क्षेत्र में उतरने के एक साल बाद स्थापित किया गया था।

Snapdeal के वरिष्ठ वाइस प्रेज़िडेंट टोनी नवीन के मुताबिक-

हमने ऑटोमोबाइल भाग में बड़ी डिमांड देखी है। हमने लांच के व Hero व दूसरों से साझे के बाद करीब 300,000 बाइकें बेची हैं। 57% के करीब उपभोगता बहली बार के खरीददार थे।

कंपनी ने पहले ही HeroMotoCorp, Piaggio, Suzuki व Datsun से साझा कर लिया है, और यह अब वाहन विक्रेताओं से भी साझा करने की सोच रहे हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन