खबर स्टार्टअप्स

नंदन नीलकणी ट्रकिंग और लॉजिस्ट्क स्टार्टप फ़ोर्टिगो के शुरवाती चरण में करेंगे निवेश

Infosys के सह-संस्थापक और UIDAI के पूर्व चेयरमैन नंदन नीलकणी Fortigo नाम के एक और शुरवाती दौर के स्टार्टप में निवेश करने जा रहे हैं, जो कि छोटे और मध्यमवर्गीय व्यापारों की लॉजिस्टिक और यातायात की परेशानियों को दूर करना चाहता है।

ET की रिपोर्ट के अनुसार Fortigo Accel Partners के साथ भी निवेश को लेकर वार्ता में है, और इस बात की पुष्टी सप्ताह के अंत तक कर दी जायेगी।

Fortigo यातायात व लॉजिस्टिक की मूल परेशानियों को दूर कर व्यापार में ट्रांस्पोर्टेशन सेवाओं की गुणवत्ता बहतर करना चाहता है। इस आइडिया ने नीलकणी को आकर्षित किया, जो कि इस समये ऐसे वेंचरों को सहायता देना चाहते हैं जो बड़ी-बड़ी समस्या दूर कर उपभोगताओं की परेशानियों का समाधान निकालें।

ET को जानकारी देने वाले अनाम व्यक्तियों ने कहा।

उन्होंने यह भी कहा कि Fortigo सीड निवेश में $2 मिलियन जुटाने के प्रयास में भी है।

Fortigo विवेक मल्होत्रा और अंजनी मंडल के दिमाग की उपज है। यह दोनों इससे पहले Headstrong में तकनीकी अधिकारियों को के रूप में कार्य करते थे, जिसे 3011 मे भारत के सबसे बड़े BPO फ़र्म Genpact ने $550 मिलियन का खरीदा था। कंपनी ट्रक ओनरों को तकनीकी उपाय उपलब्ध कराना चाहती है, जिससे वह अपने इन्वेंट्री मैनेज कर के ट्रांस्पोर्टेशन कॉस्ट की बचत कर पायें। यह मुख्यतः कम गाड़ियों वाले ट्रक ओनरों के लिये है, जिहां वह छोटे व मध्यम-वर्गीय व्यापारों की लॉजिस्टिक समस्याओं का समाधान निकाल सकें।

नीलकणी का यह साल में चौथा निवेश होगा, और वह भी शुरवाती दौर के स्टार्टपों में। उन्होंने पहले ही Mubble नाम के प्रीपेड बिल मैनेजमेंट ऐप, Juggernaut नाम के पबलिशिंग स्टार्टप और Team Indus एयरोस्पेस स्टार्टप में निवेश करा था।

वह तकनीक से राज़मर्रा की परेशानिया दूर करने वाले स्टार्टपों व इनिशियेटिवों में काफ़ी समय से इन्वॉल्व हैं। UIDAI के पूर्व चेयरमैन होने के साथ ही, यह राष्ट्रीय हाईवे, भारत के भी मुख्य थे, जहां पर यह ट्रक जैसे भारी वाहनों से हाईवे कर वसूलने के लिये और तकनीकी उपरणों के आगमन के लिये सुझाव भी देते थे।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन