खबर डिजिटल इंडिया स्टार्टअप्स

2014 अंत तक भारत में प्राइवेट एक्विटी ट्रांज़ैक्शन पहुचेंगे $२२.३ बिलियन : रिपोर्ट

Bain & Co. की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में निजी एक्विटी निवेश, जो कि अभी स्टार्टपों में सबसे प्रचलित निवेश हैं, अपना 2007 का $17 बिलियन का रिकॉर्ड तोड़ कर इस वर्ष के अंत तक $22.3 बिलियन के आंकड़े छुएंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक कंज़्यूमर तकनीक, रियल एस्टेट और बैंकिंग, फ़ाइनैशियल सेवाएं व बीमा (BFSI) सेक्टरों में निवेशों की अगुवाई हुई है।

पिछले वर्ष के मुताबिक इस वर्ष, शुरवाती नौ महीनो में डील फ़्लो में 58% का इज़ाफ़ा हुआ है। 2014 में, सितंबर तक नौ महीनों में करीब $10.6 बिलियन तक की डीलें हुई थीं। 2015 में हर तिमाही में करीब 250 डीलें हुईं हैं।

डीलों का 65% हिस्सा कंज़्यूमर तकनीक, रियल एस्टेट व (BFSI) सेक्टरों से आया है। रिपोर्ट के मुताबिक औसत डील साइज़ $21 मिलियन तक हो गया है, जो कि पिछले साल से 19% प्रतिशत तक का इज़ाफ़ा है।

टॉप निजी एक्विटी ट्रांज़ैक्शनों में Flipkart का $700 मिलियन का निवेश सत्र, Snapdeal का $500 मिलियन का निवेश सत्र शामिल हैं, जिनकी अगुवाई औरों के अलावा Foxconn व चीन के Alibaba ने करी थी।

रिपोर्ट ने यह भी कहा कि पब्लिक मार्केट सेल के कारण एक्ज़िट वैल्यू 2% बढ़ंत के साथ $4.8 मिलियन तक पहुंच गयी हैं। एक्ज़िट के मुख्य सेक्टर BFSI, रियल एस्टेट व तकनीक थे।

IIT- मद्रास की एक पूर्व रिपोर्ट के अनुसार स्वास्थ तकनीक स्टार्टपों को अधिकतम शुरवाती निवेश मिला है, और इंटरनेट मार्केटपेलेसों व ई-कॉमर्स सेगमेंटों में अधिकतम डीलें हुई हैं। इसने यह भी दर्शाया कि ग्रोथ स्टेज व लेट स्टेज निवेश में फ़ाइनैंस सेक्टर सबसे आगे रहा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन