खबर स्टार्टअप्स

लेट्स वेंचर को ए सत्र में नंदन नीलकणी, कुनाल बहल व अन्य से मिला निवेश

स्टार्टपों को शुरुवाती दौर में निवेश जुटाने में सहायता करने वाला अपने जैसे एक लौते ऑनलाइन निवेश मंच LetsVenture को ‘ए’ सत्र के निवेश में Infosys के सह-संस्थापक नंदन नीलकणी, Snapdeal के सह-संस्थापक कुनाल बहल व कुछ अन्य निवेशकों से निवेश मिला है।

निवेश सत्र, जिसके आंकड़े अभी तक पता नहीं चले हैं, में Wipro के ऋषाद प्रेमजी, Manipal Global Education के मोहनदास पाई, Freshdesk के मथरूभूतम दास व Snapdeal के सह संस्थापक रोहित बंसल के अलावा और भी निवेशक थे।

Times Internet, Singapore Angels व IDG Ventures India भी इस निवेश सत्र का हिस्सा बने। सत्र की अगुवाई Accel Partners व People’s Group के अनुपम मित्तल ने की। कंपनी के कुल निवेशकों की संख्या 18 हो गयी है।

LetsVenture के सह संस्थापक व सी.ई.ओ. शांती मोहन कहते हैं:

पिछले एक वर्ष में LetsVenture ने निवेशकों के नये संघ बनाये हैं: ऑनलाइन उद्यमी जो निवेशक बने, दूसरी पीढ़ी के खानदीनी व्यवसायी व वैश्विक भारतीय जो उच्च गुणवत्ता वाले स्टार्टपों में निवेश करने के लिये एक भरोसेमंद मंच की तलाश में रहते है।

यह ए सत्र में जुटाये हुए पैसों को विस्तार व और वैश्विक निवेशक जुटाने में लगाएंगे। यह अपनी टीम को दोगुना कर 40 की संख्या का बनाना चाहते हैं। पिछले साल इन्हें 21 एंजल निवेशकों से करीब ₹4 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ था।

2013 में शांती मोहन व संजय झा द्वारा बनाये गये इस स्टार्ट निवेश बाज़ार के पास 20 देशों से 1,200 के करीब निवेशक हैं। इन्होंने अभी तक 53 स्टार्टपों के लिये $17 मिलियन के निवेश जुटाये हैं।

इस पोर्टल के ज़रिये निवेश जुटाने वाली कंपनियों में Bluegape Lifestyle, flipClass, Ketto, Inkmonk, Amigobulls, AdPushup, PosterGully, Footprints, आदि के नाम शामिल हैं।

इन्होंने बैंगलोर के K-Law नाम के कानूनी फ़र्म के साथ साझा कर लिये है जो स्टार्टपों व निवेशकों को निवेश बंदी पर टर्म शीट व शेयरहोल्डर अग्रीमेंट डॉक्यूमेंट बनाने में सहायता करता है।

LetsVenture निवेशकों के लिये मुफ़्त है, और स्टार्टपों से निवेश के 2% लेता है। यह भारत का कहलाया जा रहा है, और GlobeVestor व ah!Ventures जैसों से प्रतिद्वंद कर रहा है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन