खबर डिजिटल इंडिया

भारतीय कपड़ा व्यापारियों की दिक्कते दूर करने के लिये PayUmoney अब कराएगा ऑनलाइन इनवॉइस उपलब्ध

स्टार्टपों ने जैसे रियल समय की दिक्कतें दूर करने के लिये तकनीक की प्रयोग किया है वह काबिले तारीफ़ है। इसका एक और उदाहरण PayUmoney ने कपड़ा व्यापारियों की दिक्कत दूर करने के लिये ई-मेल द्वारा इन्वॉइस भेजने के सिस्टम की शुरुवात कर के दिया।

आम तौर पर व्यापारी पैसे बाद में देते हैं पर उन्हें डिलिवरी के तुरंत बाद इन्वॉइस चाहिये होती है। इन्वॉइस अकसर बहुत बाद में मिलती है। व्यापारियों को पैसे भेजने में भी दिक्कत आती है, क्योंकी उन्हें बहुत बड़ी रक़म आम चैनलों द्वारा भेजनी पड़ती है।

इसी समस्या ने PayUmoney के बिज़नेस डेवेलपमेंट ऑफ़िसर परितोश शर्मा को एक टीम के साथ इस ई-मेल इन्वॉइस सिस्टम का निर्माण करने के लिये प्रेरित किया।

PayUmoney SME Business के वाइस प्रेज़िडेंट व बिजनेस मुख्य गुरजोध पाल सिंह ने कहा:

जब हमें इस चीज़ की ज़रूरत समझ में आई, तो हमने जल्द एक प्रोटोटाईप बनाया और उसमें सुधार करे ताकि छोटे व्यापारियों के लेन देन की समस्या सुलझा कर उन्हें ई-मेल से पैसे लेने के लिये सक्षम करें।

यह दो चरणों में कार्य करेगा: पहले विक्रेता एक निश्चित रक़म की इनवॉइस PayUmoney के डैशबोर्ड का प्रयोग कर के उपभोगता के पास ई-मेल से भेजते हैं। दूसरा, जब वह इन्वॉइस उपभोगता के पास पहुंच जाती है, तो वह उसमें पहले से बनी हुई पे नाओ बटन से क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग का प्रयोग कर पैसे भेज सकते हैं।

उपभोगता को ई-मेल के अलावा किसी विशेष पोर्टल में लॉगिन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इन्बिल्ट पेमेंट बटन से वह सीधे पेमेंट पोर्टल पर पहुंचते हैं, जिसे चलाना काफ़ी आसान भी है। यह इन्वॉइस भेज कर भुगतान करने को सेकेंडों का खेल बना देता है।

सिंह ने आगे कहा:
“ई-मेल द्वारा इन्वॉइस भेजने का चलन बहुत पुराना है। आप इन्वॉइस की सॉफ़्ट कॉपी मेल से व हार्ड कॉपी पोस्ट से भेजते थे। पर अब इन्वॉइस को बना कर अटैच करने की जगह आप PayUmoney Email Invoice का प्रयोग कर समय बचा सकते हैं।

PayUmoney की इस सेवा की सहूलियत के कारण अनेक कपड़ा व्यापारी इनसे जुड़ गये हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन