ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Twitter के राहुल गंजू ने संभाला Snapdeal के तकनीक के वाईस प्रेज़िडेंट का कार्यभार

Twitter, जो कि अभी अपने कई उच्च अधिकारियों के ईस्तीफ़ा देने से ग्रसित है, को राहुल गंजू के जाने से एक ओर करारा झटका लगा है। राहुल भारत के सबसे बड़े इ-कॉमर्स कंपनियों मैं से एक,  Snapdeal के तकनीक के वाइस प्रेज़िडेंट बन गये हैं।

गंजू, जिन्होंने Twitter में ढाई साल काम करने के बाद अपना पद छोड़ा कहते हैं:

मुझे Snapdeal के युवा व ओजस्वी परिवार का हिस्सा बन कर बहुत खुशी हो रही है। ई-कॉमर्स अभी भारत में बहुत ही रोमांचक स्थान है और मुझे यकीन है कि कंपनि के साथ अपने सफ़र में मुझे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

गंजू ने Snapdeal में अपने कार्य को आगे समझाया:

मेरा काम बहतरीन प्रोडक्ट डेवेलपमेंट को संस्थागत करना है, जिससे Snapdeal एक बहतरीन इंजीनियरिंग संघ बन जाये। मैं Snapdeal के स्ट्रैटेजी और कार्य करने के बीच की दूरी को कम कर सबसे बहतरीन ई-कॉमर्स कंपनी बनने के उद्देश्य में अपना योगदान देने को उत्सुक हूं।

गंजू Twitter के उन पूर्व कर्मचारियों के संघ में आ गये हैं जो अपना पद त्याग कर कहीं और अपनी किसेमत आज़माने चले गये हैं। अचानक से इस गमन का कोई कारण स्पष्ट नहीं हो रहा है, हमें लगता है कि Twitter को अभी Wall Street मे लगे झटके (हालाकि वह जल्द उबर गया था) व प्रतिद्वंदी कंपनियों के अधिकारियों को रिझाने की कोशिश इसके पीछे की मुख्य वजहें हैं।

जो भी कारण हो, Twitter को अभी भी स्थाई सी.ई.ओ. ढूंढ़ना है। सितंबर इनके लिये बहुत ही बदकिस्मत रहा है, कियोंकि इनके वेंचर आर्म देखने वाले पूर्व सी.एफ़.ओ. माइक गुप्ता ने भी Docker से जुड़ने के लिये कंपनी छोड़ दी है।

Snapdeal के सह संस्थापक रोहित बंसल ने इस बड़ी नियुक्ती पर अपने विचार प्रकट किये व गंजू को बधाई दी।

गंजू 15 साल के अनुभव से लौस हैं, और उनका आखिरी कार्य Twitter के साथ था जो उपभोगताओं का बहुत ही बड़ा मंच है। राहुल की प्रोजेक्टों के बीच की संभावनाओं को पहचानने, समझने व उपयोग करने की काबिलियत से कंपनी की कार्य क्षमता बढ़ जाएगी। हम अभी तेज़ गती से आगे बढ़ रहे हैं। ऐसे में हम बहतरीन तकनीक का प्रयोग कर अपने उपभोगताओं को एक बहतर अनुभव देना चाहते हैं। मुझे यकीन है कि राहुल Snapdeal के आंतरिक कार्य मे सहक्रीयता लाने में हमारी सहायता करेंगे। मैं राहुल का स्वागत करता हूं।

दिलचस्प बात यह है की, राहुल की LinkedIn प्रोफ़ाईल के अनुसार वह Snapdeal से दो महीनों से जुड़े हुए हैं, ऐसे में इस घोषणा को दोनों कंपनियों ने रोक कर रखा यह बहुत ही आश्चर्यजनक है।

 

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन