स्टार्टअप्स

ऑनलाइन लिंगेरी विक्रेता Zivame को मिला $४० मिलियन का निवेश, लॉच करेंगे मोबाइल ऐप

भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन लिंगेरी विक्रेता ZivaMe, को सी- चरण के निवेशों में $४० मिलियन का निवेश मिला, जिसका नेतृत्व  Khazanah Naisonal Berhad और Zodius Technology Fund ने किया ।

इस निवेश में कंपनी के पुराने निवेशक Unilazar, IDG और Kalaani Capital भी शामिल थे। नये निवेशों के साथ कंपनी भारत की महिलाओं को विश्व स्तरीय लिंगेरी खरीदने का अनुभव देना चाहती है।

इस फंड से ZivaMe और महिलाओं को ऑनलाईन खरीदारी करने के लिये अकर्षित करना, अपने उत्पादों को और भी अाकर्षक बनाना एवं नयी तकनीक  से ग्राहकों की संख्या बढ़ना चाहते हैं।

साथ ही, क्योंकि इनके यहॉं 60% से ज्यादा खरीद मोबाइल से होती है, ZivaMe मोबाइल ऐप लाने की घोषणा भी कर चुके हैं, जो कि भारत की पहली लिंगेरी विक्रेता होगी। Browse-driven experience के साथ इस app को दो-click process से और भी fast बनाया जाएगा

रिचा कर, Zivame की संस्थापक व CEO कहती हैं-

विश्व में lingerie औरत के परिधान का सबसे रामांचक हिस्सा है। भारत की महिला अब और आश्वस्त है, और वहलिंगेरी में पैसे खर्च कर अपना व्यक्तित्व दर्शाना चाहती है। वह अच्छा दिखना व महसूस करना चाहती है। उसके पास अब इतनी स्वतंत्रता है कि वह lingerie में पैसे खर्च करे। Zivame इसी बदलाव को बढ़ावा दे रहा है और ऐसी महिला को समझने के लिये तकनीक का प्रयोग कर रहा है और उसे एक बहतर लिंगेरी अनुभव देने की कोशिश कर रहा है।

2011 में रिचा कर द्वारा Zivame के ज़रिये लिंगेरी को ऑनलाइन लाने मैं पूर्णतः सफल रही थी । ZivaMe पर ५००० से भी ज़्यादा तरह के लिंगेरी, ५०० से भी ज्यादा विक्रेताओं की सूची  एवं १०० से भी ज़्यादा आकार उपलब्ध हैं। जहां ZivaMe पहले यर सिर्फ़ दूसरे विक्रेताओं को एक मंच दे रहे थे, वहीँ २ वर्ष पूर्व, Zivame ने अपने खुद के ब्रांड का उद्धघाटन किया । Zivame के ज़्यादातर ख़रीददार द्वितीय एवं तृतीया स्टार के शहरों की महिलाये हैं ।

इससे पहले चरणों में कंपनी को $9 मिलियन का निवेश मिला था |

यह खबर अंग्रेजी मैं पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  ।

 

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन